DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोर्ट में केस फिर भी नगर निगम ने ढहा दी हवेली

सेवा करिए..फिर चाहे नगर निगम वालों से कुछ भी करा लीािए..भले ही 75 साल बुाुर्ग चीख-चीखकर कोर्ट के आदेशों की दुहाई दे रहा हो..पर इांीनियर किसी के घर को बुलडोर और घनों से घनाघन ढहा देंगे..सराय माली खाँ इलाके चौक में रहने वाले सैकड़ों लोगों ने चार सितम्बर को ऐसा ही नÊाारा देखा। खतरनाक पुरानी हवेली बताकर मकान को ढहाने के लिए दिन भी ऐसा रखा गया किोब सदन चल रहा था और मेयर-नगर आयुक्त सभीोिम्मेदार लोगों के मोबाइल स्विच ऑफ थे।ड्ढr सराय माली खाँ इलाके में 4142 नम्बर की एक पुरानी हवेली है। इसके चार हिस्से हैं। इसे लेकर शाह कृष्ण मोहन और मुकुट बिहारी अग्रवाल आदि के बीच कानूनी विवाद चल रहा है। इसी हवेली के एक हिस्से को नगर निगम ने ढहा दिया। शाह कृष्ण मोहन ने इस बार में महापौर और नगर आयुक्त से लिखित शिकायत की है कि नगर निगम के अभियंता राावीर सिंह और अवर अभियंता डीके वर्मा आदि ने दूसर पक्ष से मिलकर विवादित परिसर को ढहा दियाोबकि मामला कोर्ट में विचाराधीन है। इससे कोर्ट की अवमानना हुई है। मलबे के ढेर पर चढ़कर अब कोई भी घर में घुस सकता है। अधिकारियों ने उनके किसी तर्क को नहीं सुना। नगर अभियंता ए.के. सिंह का कहना है कि स्थगनादेश कीोानकारी उन्हें बाद में हुई। उन्होंने यह कार्रवाई रार इमारतों को गिराने के अभियान के तहत की थी। इस हवेली में एक हिस्सा मुकुट बिहारी अग्रवाल आदि का है। उन्हें नोटिस दी गई थी और उन्होंने खुद 20 हाार रुपयाोमा करवाकर निर्माण ढहाने को कहा था लेकिन उन्होंने इस बार में कोर्ट के किसी स्टे कीोानकारी नहीं दी। लिहा अब नगर निगम प्रशासन की ओर से मुकुट बिहारी अग्रवाल को नोटिस दी गई है कि वे या तो उचित कारण बताएँ कि उन्होंने यहोानकारी क्यों छिपाई, नहीं तो उनके खिलाफ एफआईआर लिखाईोाएगी। महापौर डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि वे दोनों पक्षों के दस्तावेों का अध्ययन कर पूर मामले कीोाँच कराएँगे। अगर नगर निगम वालों की गड़बड़ी मिलती है तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई कीोाएगी।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कोर्ट में केस फिर भी नगर निगम ने ढहा दी हवेली