DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैं ललन सिंह की तरह ‘पाराट्रूपर’ नहीं:जगदानंद

राजद नेता जगदानन्द ने कहा कि मैं जदयू अध्यक्ष ललन सिंह की तरह ‘पाराट्रूपर’ नहीं हूं। जमीन की मेड़ से पैदा हुआ हूं। अब तो नीतीश कुमार के लोगों ने मुझे नीतीश के समकक्ष लाकर खड़ा कर दिया है। यह पूछने पर कि क्या उनके 15 साल की कालावधि भी न्यायिक जांच की परिधि में आने से राजद न्यायिक जांच से भाग रहा है। जगदानन्द ने पलटते ही नीतीश कुमार को चुनौती दी और कहा कि वे वर्ष 10-2005 के बीच बांध की सुरक्षा को ले अलग से न्यायिक आयोग का गठन करं। इससे जगदानन्द को सामाजिक और राजनीतिक के साथ ही न्यायिक सर्टिफिकेट भी मिल जाएगा कि तटबंट सुरक्षित रखने के लिए 15 सालों में उन्होंने क्या-क्या काम किया और किस तरह तटबंध को सुरक्षित रखा। यह भी पता चल जाएगा कि वर्ष 1में किस तरह केन्द्र सरकार से तटबंध की सुरक्षा पर खर्च होने वाली राशि स्वीकृत करायी जो हर वर्ष अब तक मिलती रही है।ड्ढr ड्ढr जगदानंद सिंह ने कहा जलसंसाधान मंत्रित्व काल के दौरान मैंने टाइप पत्र पर कभी हस्ताक्षर नहीं किया। अपने हाथों से लिखे कागजातों पर ही साइन किया। 15 वर्षो का मेरा मंत्रित्वकाल पारदर्शिता का नमूना है। बावजूद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनकी गलती को उजागर करने के लिए एके सिन्हा को दो वर्षो तक जल संसाधन सचिव बनाये रखा जो काफी प्रयास के बाद भी गलती ढूंढ़ नहीं सके। ए के सिन्हा वही हैं जो राजद काल में एक भी नलकूप नहीं चलाने का दोषी पाये गये थे। पिछले वर्ष बाढ़ के समय जलसंसाधन सचिव होने के बावजूद विदेश यात्रा पर चले गये। उन्होंने कहा कि सरकार अच्छे लोगों से चलती है, गन्दे और छोटे व्यक्ितत्व से नहीं।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मैं ललन सिंह की तरह ‘पाराट्रूपर’ नहीं:जगदानंद