अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पटना विवि में दूसरे दिन भी छात्रों का हंगामा

पटना विवि में पुस्तकालय विज्ञान विभाग में लगातार दूसर दिन छात्रों ने हंगामा किया। छात्रों का कहना था कि विभाग द्वारा जो तीसरी सूची जारी की गयी है उसमें भी व्यापक पैमाने पर गड़बड़ी है। सबसे बड़ी गड़बड़ी तो छात्राओं की सूची में है जिसमें शुरुआत छात्र के नाम से होती है। हालांकि विभागाध्यक्ष ने इस मामले में साफ कर दिया था कि नामांकन के लिए जो सूची जाएगी वही विवि प्रशासन द्वारा जारी आदेश के तहत ही की जाएगी। वहीं दूसरी तरफ छात्रों को बुधवार को भरोसा दिलाया गया था कि संशोधित सूची गुरुवार को प्रकाशित कराया जाएगा।ड्ढr ड्ढr गुरुवार को जो सूची प्रकाशित की गयी उसमें पटना विवि व अन्य विवि के छात्रों के लिए 50-50 फीसदी औसत रहा। छात्रों का कहना था कि नामांकन के लिए आवेदन फार्म दाखिल करने के समय यह 60-40 का औसत रखा गया था। इस मामले को लेकर गुरुवार को भी एनएसयूआई के प्रदेश महासचिव सुशील नारायण तिवारी व छात्र राकांपा के मदन कुमार गुप्ता के साथ छात्रों ने जमकर विभाग में हंगामा किया। इस दौरान छात्रों ने नोटिस बोर्ड पर सटी मेधा सूची को फाड़ दिया। साथ विभाग में रखी कुर्सियों व टेबुल को भी छात्रों ने निशाना बनाया। दूसरी तरफ विवि प्रशासन का कहना है कि कुछ त्रुटियां हुई हैं जिसको दूर कर लिया जाएगा लेकिन पटना व अन्य विश्वविद्यालयों के बीच जो औसत विवि प्रशासन द्वारा नए नियम के तहत लागू किया गया है उसमें बदलाव नहीं होगा।ड्ढr छात्र नेताओं ने विवि प्रशासन से कहा है कि विभाग की बार-बार की गलतियों से तंग आकर ही छात्रों ने हंगामा मचाया। हंगामा में एनएसयूआई के नंद किशोर यादव व सुनील कुमार, छात्र राकांपा के बाल्मिकी यादव व सुमन कुमार सहित पुस्तकालय विज्ञान विभाग में नामांकन लेनेवाले दर्जनों अभ्यर्थी शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पटना विवि में दूसरे दिन भी छात्रों का हंगामा