DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकार पर भरोसे के अलावा चारा ही क्या:वर्मा

पोटका घटना पर झारखंड में निवेश के इच्छुक उद्यमियों में निराशा है। अब, उनकी बस एक ही आस है कि सरकार ऐसी कोई मुकम्मल व्यवस्था कर जिससे ऐसी घटना दोबारा न हो। यह कहना है भूषण पावर एंड स्टील कंपनी के निदेशक एचसी वर्मा का। पोटका में भूमि सव्रेक्षण करने गये कर्मचार्यिो के साथ मारपीट की सूचना पाकर वर्मा शुक्रवार को मुख्यमंत्री और अधिकारियों से मिलने कोलकाता से रांची आये। उद्योग से उनकी मुलाकात हुई। सरकार की ओर से घटना की जांच और पुनरावृत्ति न होने का आश्वासन दिया गया। तुरंत बाद ‘हिन्दुस्तान’ के पूछने पर वर्मा की प्रतिक्रिया थी कि अब सरकार पर भरोसा करने के अलावा उनके पास क्या विकल्प है। सरकार कितना कारगर होती है यह तो भविष्य ही बतायेगा।ड्ढr बातचीत जारी रखते हुए वर्मा कहते हैं कि इस घटना से झारखंड में निवेश का मन बना रहे उद्यमियों और उनके मातहत काम करने वाले कर्मचारियों का मनोबल टूटा है। अपने आश्वसनों के अनुरूप सरकार ऐसी घटना की पुनरावृति रोक सके तभी धीर-धीर माहौल सकारात्मक बनेगा और राज्य में उद्योगो का जाल बिछेगा।ड्ढr पोटका विधायक को गुरुाी ने किया तलब शफीक अंसारी रांची। पोटका विधान सभा क्षेत्र में हुई दो बड़ी घटनाओं को मुख्यमंत्री शिबू सोरन ने गंभीरता से लिया है। घटना की वास्तविक जानकारी के लिए पोटका के झामुमो विधायक अमूल्य सरदार को रांची तलब किया है। शनिवार को विधायक श्री सरदार घटना की विस्तृत जानकारी देंगे। बुधवार को पोटका विधानसभा क्षेत्र में एक इांीनियर की पिटाई का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि गुरुवार को भूषण स्टील के तीन सव्रेयरों की ग्रामीणों ने जमकर धुनाई कर दी। ग्रामीण स्टील कंपनी के लिए जमीन देने का विरोध कर रहे थे। उन्हें न केवल पीटा गया बल्कि रस्सी से बांधकर और जूते का माला पहना कर घुमाया भी गया। एक तरफ गुरूाी टाटा को नैनों के लिए झारखंड आने का न्योता दे रहे हैं वहीं दूसरी तरफ प्लांट लगाने आ रहे कंपनी के कर्मचारियों के साथ मारपीट हो रही है। इससे गलत संदेश जा रहा है। भूषण स्टील की कर्मचारियों के साथ घटी घटना के बाद श्री सोरन ने टेलीफोन पर पोटका विधायक से बात की और उन्हें रांची आने को कहा।ड्ढr ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सरकार पर भरोसे के अलावा चारा ही क्या:वर्मा