DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसान कृषि योजनाओं से अब भी परिचित नहीं

राज्य सरकार द्वारा घोषित कृषि वर्ष का लगभग आधा समय समाप्त हो गया लेकिन कृषि योजनाओं से किसान अभी भी परिचित नहीं हैं। हद तो यह है कि मुख्यालय से जिले के अधिकारियों को भेजे गये निर्देशों के अनुपालन में भी कोताही दिखती है। विधायकों को लिखे एक पत्र में स्वयं कृषि मंत्री नागमणि ने कहा है - ‘कृषि योजनाओं की जानकारी किसानों को नहीं मिल पाती ’।ड्ढr ड्ढr मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और विभागीय मंत्री द्वारा उद्घाटित ‘मुख्यमंत्री तीव्र बीज विस्तार योजना’ जसे कार्यक्रमों को तो किसानों ने हाथों-हाथ उठा लिया। लेकिन जिन योजनाओं को किसानों तक पहुंचाने की जिम्मेदारी विभाग पर छोड़ दी गई उनमें कई औंधे मुंह गिर पड़ी तो कई का अभी ताना-बाना ही बुना जा रहा है। राष्ट्रीय कृषि विकास योजना का प्लान तो बन गया लेकिन जिलों में बनने वाली योजना अब तक पूरी नहीं हो सकी।ड्ढr ड्ढr सभी जिला कृषि पदाधिकारियों को किसानों से रो मिलने के लिए समय निकालने का निर्देश दिए कई माह माह बीत गये, आज तक इसपर अमल नहीं हो सका। कृषि मंत्री नागमणि बताते हैं कि विभाग इस वास्तिविकता से परिचित है और स्थिति से निपटने के लिए पहल हो रही है। किसान मेलों का आयोजन इसी पहल की कड़ी है। उन्होंने कहा कि कृषि योजनाओं और उनमें सरकार द्वारा जारी छूट को दर्शाने वाले विज्ञापन निकालने और बड़े-बड़े होर्डिग भी सभी प्रखंडों में लगाने का निर्देश दिया गया है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: किसान कृषि योजनाओं से अब भी परिचित नहीं