अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो टूक

दूसर चरण का वोट आज होना है। यह चरण भी सरकार, चुनाव आयोग और सुरक्षा बलों के लिए सिर्फ चिंताजनक ही नहीं, बल्कि संदेशप्रद भी है। हालांकि फूलप्रूफ सुरक्षा व्यवस्था के दावे प्रथम चरण में भी किये गये थे फिर भी हिंसा हुई। दूसर चरण में राज्य की आठ सीटों पर मतदान होना है। सरकार और चुनाव आयोग के दावे भी बड़े- बड़े हैं। पर यह भी सच्चाई है कि पहले चरण में नक्सलियों ने अपने प्रभाववाले इलाकों में जमकर बूथ छापे। बड़ी संख्या में दहशतजदा आम वोटरों ने घरों में रहना ही बेहतर समझा। अब यह चुनाव आयोग और पुलिस-प्रशासन की जिम्मेवारी है कि जनता कम से कम दूसर चरण में भयमुक्त होकर मतदान कर सके। बूथ तक लोग बेखौफ जायें, इसे सुनिश्चित करना ही होगा, तभी लोकतंत्र का यह महापर्व अपने उद्देश्यों में पूरी तरह सार्थक कहलायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दो टूक