अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डॉलर की मजबूती से शेयर अंधेरी सुरंग में

डॉलर की दो वर्षीय तेजी तथा पैट्रो व मुद्रास्फीति में गिरावट के बावजूद गत 13 सितम्बर का समाप्त सप्ताह में शेयर बाजार पुन: उलट गया। अमेरिेकी संस्थागत वित्तीय संकट की मार से अन्य विदेशी शेयर बाजार भी धराशायी होने लगे। स्थानीय बीएसई इंडैक्स पिछल सप्ताह 14483.83 स पहल दिन चलत काराबार 15107.01 तक हुआ। उस दिन वित्तीय संस्थाआं द्वारा 758 कराड़ रुपए का शुद्ध निवश किय जान का असर था। बाद मं अमेरिका मं लेहमान ब्रदर्स, मैरिल लिंच, अमेरिकन इंटरनशनल समूह आदि वित्तीय संस्थाआं की हालत पतली हान स चार दिन मं विदशी संस्थाएं लगभग चार हजार कराड़ रुपए क विनिवश कर गयीं। कुछ समय पूर्व अमेरिका की दा प्रमुख वित्तीय कम्पनियां क खजान खाली हा गय थ। फलस्वरूप बीएसई इंडैक्स गिरत हुए अंतिम काराबारी सत्र मं 14000.81 पर 483 अंक मंद क साथ बंद हुआ। इसस पूर्व ऊंच मं यह 14433.20 हुआ था। एनएसई इंडैक्स 4352.30 स शुरू मं 4482.30 हान क बाद गिरकर 4228.45 पर बंद हान स पूर्व 4323.0 हुआ था। गत वर्ष इन्हीं दिनां दानां सूचकांक 15505.36 व 44थ। एनएसई मं 2अगस्त स रुपए मं डॉलर का काराबार शुरू हुआ तथा कुछ अन्य करंसियां का भी चालू हान की आशा है। सम्भवत: इसीलिए शयर इंडैक्स गत वर्ष स कम हान पर भी एनएसई का दैनिक काराबार 10836 की अपक्षा 12451 कराड़ रुपए हुआ। सरकारी प्रात्साहन क अभाव मं घरलू म्युचुअल फंड भी दबाव मं था। आईटी कम्पनियां का डॉलर की इस साल छह रुपए स अधिक की तजी (30 की बजाय 45.80 रुपए) अमेरिकन मंद क कारण रास नहीं आई। मुद्रास्फीति मं निरंतर कमी, पट्रा का बढ़-बढ॥कर गिरना अब कन्द्रीय कर-राजस्वां मं वृद्धि बअसर रही। आधारभूत तथा सामान्य औद्यागिक प्रगति दर कमजार हान और रिजर्व बैंक का रिजर्व काष दा सप्ताह मं 8.50 अरब डॉलर गिर जान का प्रतिकूल प्रभाव नजर आया। कुछ आर्थिक सलाहकारां का कहना था कि डॉलर की तजी स पट्रा व अन्य आयातक कम्पनियां क कच्च माल की लागत बढ़ गयी। दूसरी आर पश्चिमी दशां मं आर्थिक मंद की वजह स तैयार माल का निर्यात आशानुकूल नहीं हुआ। यह गौरतलब है कि इसी आर्थिक मंद की वजह स यूराप, अमेरिका आदि मं पट्रा, लौह-अलौह धातुआं, बुलियन, ऑटा, तथा अन्य औद्यागिक मांग कमजार चल रही है। बीएसई मं काराबार कुछ कमजार हान का एक कारण वहां निर्दशकसदस्य का 1सितम्बर का हान वाल चुनाव क लिए व्यस्त हाना था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: डॉलर की मजबूती से शेयर अंधेरी सुरंग में