अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ममता ने फिर दी धमकी

तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी ने राज्य सरकार पर विश्वासघात करने का आरोप लगाते हुए सिगुर में फिर बेमियादी धरने पर बैठने की धमकी दी है। सुश्री बनर्जी ने मंगलवार को सिंगुर में एक विशाल रैली को संबोधित करते गुए कहा कि सात सितंबर को राज्यपाल की मौजूदगी में हुए सिंगुर करार से मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य पीछे हट रहे हैं। इस विश्वासघात के खिलाफ वे फिर बेमियादी धरना शुरू करने को बाध्य होंगी। ममता ने कहा कि वे राज्यपाल के कोलकाता लौटने का इंतजार कर रही हैं। वे 1सितंबर को कोलकाता लौटेंगे। राज्यपाल के आने के बाद उन्हें वस्तुस्थिति से अवगत कराएंगी और फिर आंदोलन आरंभ कर देंगी। ममता ने वैसे विश्वास जताया कि राज्य सरकार को शुभ बुद्धि आएगी और वह करार का सम्मान करगी। तृणमूल नेत्री ने कहा कि वे भी चाहती हैं कि सिंगुर में टाटा कार कारखाना बने पर उसके लिए एकड़ जमीन की जरूरत नहीं है। टाटा के मुख्य संयंत्र के लिए 600 और उसकी सहयोगी इकाइयों के लिए 100 एकड़ यानी कुल अधिकतम 700 एकड़ जमीन वे छोड़ सकती हैं। बाकी 2एकड़ जमीन परियोजना क्षेत्र के भीतर ही सरकार को लौटानी होगी क्योंकि यह जमीन किसानों की सहमति लिए बगैर यानी जबरन अधिगृहीत की गई थी। सनद हो कि पहले ममता अनिच्छुक किसानों की 400 एकड़ जमीन लौटाने पर अड़ी हुई थीं। उन्होंने सरकार के नए पैकेा को ठुकरा दिया है पर अपने रूख को थोड़ा नरम भी किया है। ममता की सिंगुर रैली में कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष सुब्रत मुखर्जी भी शरीक हुए। उन्हें इस रैली में आने से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रियरांन दासमुंशी ने मना किया था। सुब्रत ने कहा कि इस रैली में भाग लेने के कारण संभव है कि उन्हें अपने पद से हाथ धोना पड़े पर यह समय की मांग है कि सभी लोग ममता के जनांदोलन में भाग लें। सुब्रत ने कहा कि राज्य में माकपा विरोधी कोई लड़ाई ममता के नेतृत्व में ही लड़ी जा सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ममता ने फिर दी धमकी