DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हमलों को उचित ठहराने में जुटी भाजपा

धर्मान्तरण की आड़ में भारतीय जनता पार्टी देश में चर्चों पर हो रहे हमलों को उचित ठहराने की मुहिम में जुट गई है। पार्टी ने इस मुहिम के लिये संघ परिवार के संगठन विश्व हिन्दू परिषद और बजरंग दल के साथ खुली जुगलबंदी कर ली है। कर्नाटक के तटीय शहर मेंगलूर, दक्षिण कनारा, उडपी और चिकमंगलूर में चर्चों पर हुये हमलों के बार में कर्नाटक के मुख्यमंत्री येड्डीयूरप्पा ने बेहद असंवेदनशील बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि जिन जिलों में चर्चों पर हमले हुये हैं उनमें से दो को छोड़कर सभी में धर्मान्तरण का काम चल रहा था। उन्होंने यह भी कहा कि वह राज्य में जबरिया धर्मान्तरण को कतई बर्दाश्त नहीं करंगे। असल में भाजपा इस मसले को लेकर हिन्दुओं के बीच ध्रुवीकरण करना चाहती है। पार्टी चुनाव तक कार्यकताओं के लिये हिन्दुत्व का एजेन्डा पेश किया है। बेंगलूरू में पार्टी की हुई राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक इस पर बकायदा मुहर लगाई गई है। इसीलिये पार्टी ने नरन्द्र मोदी की कट्टर हिन्दूवादी छवि को पेश किया है। अभी तक चर्चों पर वहीं हमले हुये हैं, जहां भाजपा और उसके सहयोगियों की सरकार है। उड़ीसा में कंधमाल में हुये दंगों की आंच अभी थमी नहीं है। भाजपा ने चर्चों पर हुये हमलों के लिये मैसूर में एक ईसाई समुदाय द्वारा हिन्दू देवी देवताओं की आलोचना वाले पर्चों को जिम्मेदार ठहराया है। पार्टी प्रवक्ता रवि शंकर प्रसाद ने दबी जुबान में हमले की निंदा करते हुये कहा है कि भाजपा हिन्दू देवी देवताओं और जबरिया धर्मान्तरण को कतई बर्दाश्त नहीं करगी। वहीं दूसरी ओर विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक सिंहल ने कहा है कि देश विदेशी ताकतों के शह पर वे देश का ईसाईकरण बर्दास्त नहीं करंगे। उन्होंने कहा कि धर्मान्तरण एक प्रकार की हिंसा है। उन्होंने कहा कि सेवा के नाम पर मिशनरियों को धर्मान्तरण के लिये विदेशों से पैसा मिल रहा है। उन्होंने इस सहायता को रोकने की मांग करते हुये कहा कि चर्चो पर हो रहे हमले हिन्दू समाज की स्वभाविक प्रतिक्रिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हमलों को उचित ठहराने में जुटी भाजपा