DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विपक्ष बरसेगा, स्पीकर पर भी पड़ेंगे छींटे

झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र 1सितंबर से शुरू हो रहा है। सत्ता पक्ष की बदली तसवीर के बीच यह सत्र कई मायनों में महत्वपूर्ण होगा। आठ दिवसीय इस सत्र में छह बैठकें होंगी। शनिवार और रविवार को अवकाश रहेगा। सरकार की कार्यसूची में अनुपूरक बजट सत्र सबसे अहम विषय रहेगा। वित्त सह संसदीय कार्यमंत्री स्टीफन मरांडी के मुताबिक सत्र को लेकर सरकार की तैयारी पूरी हो चुकी है। चालू वित्तीय वर्ष का पहला अनुपूरक बजट सदन में पेश करने लिए तैयार है। मंत्री के मुताबिक इस सत्र में कोई बिल नहीं लाया जायेगा। मुख्यमंत्री शिबू सोरन पहली बार लंबे सत्र का सामना करंगे। बतौर मुख्यमंत्री सदन में पहली बार वह मुख्यमंत्री प्रश्नकाल में सदस्यों के सवालों से रू-ब-रू होंगे, जवाब देंगे।ड्ढr विपक्ष भी सरकार को घेरने की तैयारी में जुटा है। विपक्ष जमकर बरसेगा और उसके तेज छींटें स्पीकर पर भी पड़ेंगे।ड्ढr सरकार को घेरने के लिए विपक्ष के पास मुद्दों की लंबी फेहरिस्त है। बकौल विपक्ष के मुख्य सचेतक सीपी सिंह- सीएम शिबू सोरन के हालिया बयान से सामाजिक समरसता पर चोट पड़ी है। हम इसे मुद्दा बनायेंगे। जहां तक विकास की बात है, पूर स्टेट में विकास बिल्कुल ठप है। छह महीना बीतने को है, कई विभागों ने बजट का पैसा तक खर्च नहीं किया गया है। लॉ एंड ऑर्डर की स्थित बदतर होती जा रही है। नक्सल समस्या पर कोई नियंत्रण नहीं है। सदन में सभी मुद्दे उठेंगे।ड्ढr सीपी सिंह कहते हैं- दल-बदल का मामला अब हद से पार होता जा रहा है। हम स्पीकर से स्पष्ट जानना चाहेंगे कि आखिर कब तक इसे टालेंगे। स्पीकर इस पर ठोस जवाब दें। धर्मातरण से जुड़े मसले पर सदन की कमेटी की रिपोर्ट का क्या हुआ? विपक्ष इसे जानना चाहेगा। स्पीकर कई और मुद्दों पर विपक्ष के निशाने पर रहेंगे। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: विपक्ष बरसेगा, स्पीकर पर भी पड़ेंगे छींटे