DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्टीयरिंग कमेटी का शीघ्र गठन हो

सोमवार को सीएम शिबू सोरन से मिलने के लिए सांसदों, मंत्रियों और विधायकों का तांता लगा रहा। आवास पर उनसे जहां पूर्व सीएम मधु कोड़ा, सांसद सुशीला केरकेट्टा, धीरंद्र अग्रवाल, भुवनेश्वर मेहता, मंत्री नलिन सोरन और रवींद्र नाथ महतो, पूर्व सांसद तिलकधारी सिंह समेत कई विधायकों ने मुलाकात की, वहीं प्रोजेक्ट भवन में सांसद चंद्रशेखर दुबे, पूर्व सांसद तिलकधारी सिंह और मंत्री दुलाल भुइयां ने लगभग आधे घंटे तक बातचीत की। मधु कोड़ा ने फिर शिबू सोरन से स्टीयरिंग कमेटी के शीघ्र गठन की मांग की। उन्होंने उनसे आग्रह किया कि केंद्र की तर्ज पर राज्य हित में इसका अविलंब गठन होना चाहिए। अन्य मिलनेवालों में से किसी ने मनचाहा डीसी मांगा, तो किसी की किसी बीडीओ या सीओ से शिकायत थी। कोई किसी योजना के लटके होने को लेकर नाराज था। उम्मीदें अभी और भी हैं.हृषिकेश सिंहदेव अरमान बाकी हैं अभी, उम्मीदें और भी हैं। सीएम की कुर्सी छोड़ने के बाद पहली बार चक्रधरपुर पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री और यूपीए स्टीयरिंग कमेटी के चेयरमैन मधु कोड़ा ने कुछ इसी अंदाज में अपने मन की बातें रखी। पत्रकारों से बातचीत के दौरान कोड़ा ने कहा कि वह मातृभूमि के लिये मरते दम तक राजनीति से जुड़े रहेंगे। अभी बहुत कुछ करना बाकी है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि सूबे में बनी पुर्नवास नीति का प्रचार उचित तरीके से नहीं होने के कारण ही पोटका और खरसावां जसी घटनाएं हो रही हैं। उक्त दोनों घटनाओं से निवेशकों को धक्का लगा है। कोड़ा ने कहा कि सिंहभूम के शैक्षिक विकास के लिये उन्होंने आइटीआइ, इांीनियरिंग कॉलेज और कोल्हान यूनिवर्सिटी की स्थापना की है। कहा कि उनके मुख्यमंत्री काल में कैबिनेट द्वारा लिये गये निर्णय बरकरार रहेंगे। फाइल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: स्टीयरिंग कमेटी का शीघ्र गठन हो