अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विक्रम आदित्य की उम्र छोटी, दिल बड़ा

रामकृष्ण विद्यापीठ, देवघर के 14 वर्षीय छात्र विक्रम आदित्य के एक स्वत:स्फूर्त जज्बे ने उसका कद इतना बढ़ा दिया है, कि इसकी दीगर मिसाल ही मिले। राज्यस्तरीय साइंस सेमिनार के रिाल्ट की घोषणा होनेवाली थी। सब सांसें थामे बैठे थे। अचानक उसका नाम टॉपर के रूप में घोषित हुआ, हॉल तालियों की से गूंज उठा। पुरस्कार स्वरूप सरकार से 50 हाार की राशि उसे देने की घोषणा हुई। पर यह क्या?ड्ढr विक्रम ने तालियों की गूंज थमने का इंतजार किये बिना ही बड़े संकोच और द्रवित अंदाज में कहा- मैं इस पैसे को बिहार के बाढ़ पीड़ित अपने भाई-बहनों के नाम करता हूं। विक्रम की इस घोषणा पर हाल में सन्नाटा छा गया। सबकी नजरं देश के इस भावी वैज्ञानिक पर टिकी थीं। बाढ़ पीड़ितों की सहायता में मदद को उठे हाारों हाथ अब विक्रम को स्नेहाशीष देने के लिए लहरा रहे थे। उसके जज्बे को हॉल में मौजूद सैकड़ों लोगों ने एक पाक सलाम से नवाजा। टॉपर विक्रम राष्ट्रीय स्तर पर राज्य का प्रतिनिधित्व करगा। उसे राष्ट्रीय सेमिनार का खिताब जीतने की पूरी उम्मीद है। विक्रम कई दिनों से बाढ़ पीड़ितों के लिए कुछ करने को बेचैन था। इसी बीच सरकार की ओर से टॉपर को 50 हाार देने की घोषणा से उसे उम्मीद दिखी। वह जी-तोड़ मेहनत करने लगा। भगवान ने भी उसकी सुन ली। विक्रम यह राशि अपने स्कूल के माध्यम से भेजेगा। उधर, शिक्षा सचिव जेबी तुबिद ने भी विक्रम के इस कदम की सराहना की।ड्ढr शिष्य से गुरु हुए प्रेरित, देंगे एक दिन का वेतन : विक्रम आदित्य की घोषणा से सेमिनार में मौजूद शिक्षक भी प्रेरित हुए। डीइओ अशोक शर्मा की अध्यक्षता में हुई बैठक में हाइस्कूल के सभी शिक्षकों ने अपना एक दिन का वेतन बाढ़ पीड़ितों को देने की घोषणा की। यह राशि 26 सितंबर तक डीइओ कार्यालय में जमा करनी है।ड्ढr एकत्रित राशि शिक्षा मंत्री बंधु तिर्की के माध्यम से सीएम राहत कोष में जमा करायी जायेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: विक्रम आदित्य की उम्र छोटी, दिल बड़ा