अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सपा-कांग्रेस की दोस्ती में दरार

समाजवादी पार्टी और कांग्रेस की दोस्ती में दरारें बढ़ती जा रही हैं। उत्तर प्रदेश में जहां पार्टी कांग्रेस को 12 से ज्यादा सीटें देने को तैयार नहीं है, वहीं मध्य प्रदेश में अपने विधायक तोड़े जाने से खफा पार्टी ने उमा के साथ चुनावी गठजोड़ की बात कह दी है। इतना ही नहीं मप्र की आंच उप्र तक भी पहुंच गई है। सपा वहां अजित को भी टटोलने को तैयार है। समझा जा रहा है कि दिल्ली, राजस्थान में भी सपा और कांग्रेस के रास्ते अलग-अलग हो सकते हैं। अमर सिंह ने कहा कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस के साथ चुनावी गठबंधन नहीं करंगे। सपा के आठ में से चार विधायक हाल में कांग्रेस में चले गए हैं। सपा का आरोप है कि कांग्रेस ने सहयोगी दल को ही तोड़ डाला। सिंह का दावा है कि मध्य प्रदेश में पार्टी विधानसभा चुनावों में अपने बूते भी उतरती है तो पहले से ज्यादा सीटें लाएंगी। फिर भी उमा भारती की पार्टी के साथ समझौते की बातचीत की जाएगी। कांग्रेस की तरफ से हालांकि विधायकों को लेकर सफाई दी चुकी है। पार्टी का कहना है कि विधायक तोड़े नहीं बल्कि वे स्वेच्छा से आए हैं। लेकिन सपा को यह हजम नहीं हो रहा है। इतना ही नहीं मप्र की इस घटना की आंच उत्तर प्रदेश तक पहुंचने लगी है। सिंह ने आज फिर साफ किया है कि हमने कांग्रेस को 12 सीटें ऑफर की हैं, इससे ज्यादा सीटें देने को सपा तैयार नहीं हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सपा-कांग्रेस की दोस्ती में दरार