DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज्य कृषि उद्योग विकास निगम: बहुरंगे कर्मियों के दिन

राज्य कृषि उद्योग विकास निगम के कर्मचारियों के दिन फिरने वाले हैं। सरकार इस निगम को फिर से जिन्दा करने का मन बना रही है। कृषि विभाग ने इसका प्रस्ताव विभागीय मंत्री नागमणि के पास विचार के लिए भेजा है। संचिका पर तो अभी मंत्री की सहमति नहीं मिली है लेकिन उनके अनुसार भी उक्त निगम को जिन्दा करने का यह बेहतर अवसर है।ड्ढr ड्ढr मंत्री ने कहा कि कृषि वर्ष में विभाग का काम बढ़ गया है। ऐसे में कुछ काम इस निगम को सौंप कर इसे लाभ में लाया जा सकता है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इस मुतल्लिक कोई भी फैसला गहन विचार के बाद ही होगा। राज्य में सरकार बदलने के बाद निगम और बोर्डो की बदलती किस्मत को देख कृषि विभाग की नजर भी राज्य कृषि उद्योग विकास निगम पर चली गई है। विभाग ने प्रस्ताव दिया है कि कृषि योजनाओं को उक्त निगम के माध्यम से कराया जा सकता है।ड्ढr ड्ढr किसान हित में कराये जाने वाले कार्यो के अलावा बीज, खाद और माइक्रोन्यूट्रिएन्ट भी इस निगम के माध्यम से किसानों में वितरित किये जा सकते हैं। निगम अगर सात प्रतिशत मुनाफा के साथ भी इस पर काम करना शुरू करगा को कर्मचारियों के दिन फिर जायेंगे और सरकार का काम भी सहा और सुचारु हो जायेगा। वर्तमान में विभाग में कर्मियों की कमी से भी काम प्रभावित होते हैं। जबकि 15 वर्षो से बंद पड़े इस निगम के लगभग तीन सौ कर्मचारी बेकार हो गये हैं। उनका वेतन भी बंद है। विभाग के पास सिर्फ राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के तहत ही लगभग तीन सौ करोड़ के वितरण के काम विभाग के पास हैं। इस काम को उक्त निगम के माध्यम से कराया जा सकता है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राज्य कृषि उद्योग विकास निगम: बहुरंगे कर्मियों के दिन