अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर व्यक्ित सामाजिक क्षेत्र में सहयोग करे: न्यायमूर्ति शिवकीर्ति

यायमूर्ति शिवकीर्ति सिंह ने कहा है कि हर व्यक्ित को सामाजिक क्षेत्र में सहयोग करने की आवश्यकता है। इस कार्य में यह नहीं देखा जाना चाहिए कि कौन कितना दान करता है। जिस व्यक्ित को जितनी क्षमता हो उतनी मदद करने की पहल करने की आवश्यकता है। इससे मानवीय संवेदना जगती है और अन्दर इच्छाशक्ित रहने से हर व्यक्ित का कल्याण होता है। न्यामूर्ति श्री सिंह रविवार को रड स्वास्तिक सोसायटी द्वारा आयोजित बिहार के विकलांग लोगों को मुफ्त कृत्रिम अंग एवं तिपहिया साईकिल वितरण समारोह को संबोधित कर रहे थे।ड्ढr ड्ढr इस मौके पर राजस्व पर्षद के सदस्य के.डी.सिन्हा ने कहा कि विकलांगों के लिए ऐसे कार्यक्रम को व्यापक रूप से फैलाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि शिविर करने के बाद इस बात का विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए कि उसका फॉलो-अप किया जाए। विद्युत पर्षद कोषांग के महानिदेशक (निगरानी) आनंद शंकर ने अपने वेतन का 10 फीसदी दान करते हुए कहा कि सभी को इस प्रकार का कार्य करना चाहिए। इससे समाज में बढ़नेवाली खाई को पाटा जा सकता है। आद्री के निदेशक शैवाल गुप्ता ने अपने संबोधन में कहा कि सरकार जितनी सेवा करती है सिर्फ वही काफी नहीं है। समाज को भी आगे जिम्मेवारी उठाने के लिए तैयार रहना चाहिए। प्रसिद्ध सर्जन डा.ए.ए.हई ने कहा कि विकलांगों की मदद के लिए ऐसे कैम्पों की निहायत आवश्यकता है। इसके साथ यह भी उतना ही आवश्यक है कि विकलांगों को हुनरमंद बनाकर रोजगार के अवसर प्रदान किया जाए। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को हेय दृष्टि से देखने की प्रवृति को भी छोड़ना चाहिए। सोसायटी के अध्यक्ष आईपीएस अधिकारी राजीव रंजन वर्मा ने अतिथियों का स्वागत करते हुए बताया कि पहले दिन के शिविर में कुल 151 लोग पहुंचे। इनमें से 44 व्यक्ितयों को कैलिपर, 22 लोगों का कृत्रिम पैर, 18 लोगों को वैशाखी और एक को ह्वील चेयर दिया गया। यह कार्यक्रम 27 सितम्बर तक चलेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हर व्यक्ित सामाजिक क्षेत्र में सहयोग करे: न्यायमूर्ति शिवकीर्ति