DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेंसेक्स की चाल ने किया बदहाल

इक्िवटी मार्केट में चल रही जबरदस्त उथल-पुथल और रुपए की कीमतें गिरने से लगभग 87 भारतीय कंपनियों से ‘अरबपति’ का तमगा छिन गया है। इन कंपनियों की बाजार में हैसियत पहले से लगभग आधी हो गई है। इसके चलते इन्हें देश की अरबपति कंपनियों के समूह से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है।ड्ढr ड्ढr अरबपति समूह से बाहर हुई कंपनियों में अनिल अंबानी की एडलैब्स फिल्म्स, टाटा समूह की टाटा चाय, नरश गोयल की जेट एयरवेज और बायोटेक्नोलॉजी क्षेत्र की अग्रणी कंपनी बायोकॉन भी शामिल है। अनिल अंबानी समूह की रिलायंस कम्युनिकेशंस भी देश की शीर्ष 10 कंपनियों की सूची में से बाहर हो गई है। हालाँकि मुकेश अंबानी की रिलायंस इन्डस्ट्रीा लगभग डेढ़ लाख करोड़ रुपए गँवाकर भी देश की कंपनी नम्बर वन की कुसर्ीे पर कायम है।10 जनवरी को देश में 226 कंपनियाँ ऐसी थीं, बाजार के अनुसार जिनकी हैसियत कम से कम एक अरब डॉलर से ज्यादा थी। इन सभी कंपनियों की कुल संपत्ति उस समय 1600 अरब डॉलर (1,60,000 करोड़ रुपए) के आस-पास आँकी गई थी।ड्ढr ड्ढr लेकिन 10 जनवरी के बाद सेन्सेक्स के गिरने अब इन्हीं कंपनियों की हैसियत लगभग एक तिहाई कम होकर महा 36,62,000 करोड़ रुपए (7अरब डॉलर) रह गई है। उस समय 21,206.77 अंकों के शीर्ष पर विराजमान सेन्सेक्स अब 14000 अंकों के स्तर पर झूल रहा है। इस जबर्दस्त गिरावट ने ही भारत में अरबपति कंपनियों की संख्या लगभग आधी कर दी है। स्टॉक मार्केट में आई गिरावट के साथ ही डॉलर के मुकाबले रुपए की कीमतें में आई लगभग 17 प्रतिशत की कमी ने भी कंपनियों को भारी झटका दिया है। जनवरी में एक डॉलर लगभग 3पए का था जबकि अब यही डॉलर 46 रुपए के आसपास हो गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सेंसेक्स की चाल ने किया बदहाल