अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

356 पर सोचे केंद्र : पासवान

लोक जनशक्ित पार्टी के अध्यक्ष एवं केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि केंद्र सरकार को उड़ीसा एवं कर्नाटक सरकारों को संविधान के अनुच्छेद 355 के तहत एडवाक्षरी जारी करनी चाहिए और इसके बाद भी अल्पसंख्यकों पर हमले नहीं रुके तो वहां 356 के तहत कार्रवाई पर गंभीरता से विचार करना चाहिए। जम्मू कश्मीर के पुलवामा में भारतीय इस्पात प्राधिकरण सेल की प्रोसेसिंग इकाई की आधारशिला रखने जा रहे पासवान ने विमान में हिंन्दुस्तान से कहा कि केंद्र की सलाह के बावजूद दोनों राज्य सरकारं ईसाइयों पर बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद जसे घटक संगठनों द्वारा किए जा रहे हमलों को रोकने में पूरी तरह विफल रही हैं। उन्होंने कई स्थानों पर हमलावरों को स्थानीय पुलिस-प्रशासन के संरक्षण का आरोप लगाया। बजरंग दल तथा विहिप पर प्रतिबंध लगाने की अपनी मांग को जायज ठहराते हुए पासवान ने कहा कि इन संगठनों की गतिविधियां समाज में नफरत और आतंक पैदा करने वाली, राष्ट्र विरोधी और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए चुनौती हैं। पासवान ने कश्मीर से बाहर चले गए कश्मीरी पंडितों के लिए अलग बसावट की भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की मांग को आड़े हाथों लेते हुए सवाल किया कि जो कश्मीरी पंडित अब भी घाटी में ही रह रहे हैं, उनकी सुरक्षा और कल्याण के बार में भाजपा के पास क्या कार्यक्रम और सुझाव हैं। उन्होंने कहा कि कश्मीरी पंडितों को अलग बसाने के बार में की गई मांग के पीछे अगर उन पर हो रहे अत्याचार हैं तो फिर दलितों के बार में भाजपा क्या कहेगी जिन्हें आजादी के 60 साल बाद भी लगातार अत्याचार और उत्पीड़न का सामना करना पड़ रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 356 पर सोचे केंद्र : पासवान