अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खतरनाक गुस्सा

पहली नजर में देखें तो यह एक अकेली, अलग-थलग सी घटना है। ग्रेटर नोएडा में जिस तरह से एक कंपनी के बर्खास्त कर्मचारियों ने कंपनी के सीईओ को पीट- पीट कर मार डाला वैसे बहुत सार उदाहरण नहीं मिलेंगे। बावजूद इसके इस घटना में कई खतरनाक संकेत छुपे हुए हैं। मंदी जब पूरी दुनिया के दरवाजों पर दस्तक दे रही है तो छंटनी, बर्खास्तगी और तालाबंदी जसी बुरी लगने वाली और बुर नतीजे देने वाली खबरं आने वाले दिनों में बढ़ भी सकती हैं। कुछ कंपनियां तो पहले ही कर्मचारियों की संख्या में कटौती का ऐलान कर चुकी हैं। ऐसे में स्वाभाविक ही है कि श्रमिक असंतोष पैदा होगा। खुले बाजार की अर्थव्यवस्था अगर बड़े पैमाने पर रोगार और तरक्की देने की संभावना रखती है तो मंदी की निराशा में बेरोगार करने के संकट भी उसके गति विज्ञान का ही हिस्सा हैं। लेकिन एक आधुनिक समाज से हम यह उम्मीद करते हैं कि अगर वह अवसरों को हासिल करने के लिए हाथ बढ़ाता है तो उसे संकटों से निपटने के लिए भी कमर कस कर रखनी चाहिए। गेट्रर नोएडा की घटना सिर्फ इतना बताती है कि पहली चीज के लिए तो हमारी तैयारियां पूरी हैं लेकिन दूसरी चीज के लिए हमने व्यवस्थाएं नहीं की हैं। छंटनी, श्रमिकों की संख्या में कटौती और उद्योगों का बंद होना यह सब इस बाजार व्यवस्था का उतना ही बड़ा सच है जितना इस व्यवस्था से लोगों को बड़े पैमाने पर रोगार और आगे बढ़ने के अवसर मिलना। इस सच को स्वीकार कर हमें इन सब के लिए नियम कायदे भी बनाने चाहिए और मामलों के निपटार की संस्थागत व्यवस्था भी होनी चाहिए। ऐसी व्यवस्थाएं काफी हद तक गुस्से को बेकाबू होने से रोक सकती हैं। इतनी बड़ी वारदात इसलिए भी हो गई कि पुलिस समय पर नहीं पहुंच सकी। ग्रेटर नोएडा को एक औद्योगिक नगरी के रूप में बसाया गया है। इस वादे के साथ कि वहां उद्योगों को सारी ढांचागत सुविधाएं और अनुकूल माहौल होगा। सड़क, बिजली वगैरह की पूरी व्यवस्था की जाएगी। दिक्कत यह है कि न तो हम पुलिस व्यवस्था को ढांचागत सुविधाओं का हिस्सा मानते हैं और कानून-व्यवस्था को औद्योगिक माहौल का अंग। ग्रेटर नोएडा में हुई वारदात किसी अनाम मुहल्ले में चुपचाप कर दी गई हत्या नहीं थी जहां पुलिस वारदात के बाद पहुंचती। पुलिस को इतने बड़े असंतोष की खबर न होना ही उसके काम के तरीके पर सबसे बड़ी टिप्पणी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: खतरनाक गुस्सा