अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तेल कंपनियों को मिलेंगे पेट्रो एमबीए और इंजीनियर

इंडियन ऑयल,भारत पेट्रोलियम कॉरपोरशन लिमिटेड,ओएनजीसी, रिलायंस पेट्रोलियम जसी पेट्रोलियम सेक्टर की प्रमुख कंपनियों को अब इसी सेक्टर के लिए बिल्कुल मुफीद इंजीनियरों और मैनेजरों को तलाश करने के लिए जद्दोहद नहीं करनी पड़ेगी। दरअसल राय बरेली में राजीव गांधी इंस्टीच्यूट ऑफ पेट्रोलियम टेकनॉलोजी (आराीआईपीटी) में पहले बैच के बी.टेक पेट्रोलियम टेकनॉलोजी और रिफाइनरी के छात्रों की इसी हफ्ते क्लास चालू हो गई हैं। इसी प्रकार से पेट्रोलियम सेक्टर में एमबीए की भी क्लास शुरू हो गई। इसकी स्थापना पर करीब 685 करोड़ रुपये का खर्चा आया है। पेट्रोलियम मंत्रालय के एक शीर्ष सूत्र ने बताया कि दरअसल सरकार ने इसकी स्थापना का फैसला इसलिए किया था ताकि पेट्रोलियम सेक्टर की कंपनियों को पेशेवर आराम से मिल जाएं। हालांकि भारत का पेट्रोलियम क्षेत्र तेजी से विकास करता जा रहा है, पर अब भी इसके लिए पेशेवरों की सप्लाई करने के लिए कोई अलग से शिक्षण संस्थान नहीं था। महत्वपूर्ण है कि आराीआईपीटी की स्थापना के लिए आवश्यक पूंजी की व्यवस्था ओएनजीसी, ऑयल इंडिया लिमिटेड, गैस अथारिटी इंडिया लिमिटेड तथा मानव संसाधन मंत्रालय ने मिल जुलकर की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: तेल कंपनियों को मिलेंगे पेट्रो एमबीए और इंजीनियर