अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पता चलेगा वोटिंग में महिलाओं का रुझान

वीं लोकसभा चुनाव काफी कुछ तय करगा। राज्य और राष्ट्रीय स्तर दोनों पर। झारखंड में भी कई कीर्तिमान बनेंगे। पूर्व मुख्यमंत्रियों में किसी की किस्मत चमकेगी, कुछ की डूबेगी। संसद जाने वाले कितने विधायकों का सपना साकार हो पायेगा। लालकृष्ण आडवाणी के सपने सच होंगे या वह पीएम इन वेटिंग ही रह जायेंगे। लालू यादव और रामविलास पासवान के सितार जमीं पर आयेंगे या पूर्ववत रहेंगे।ड्ढr इससे अलग इस चुनाव में महिलाओं की भागीदारी तय होगी। वोटिंग में उनका रूझान का प्रतिशत भी इस बार पता चल जायेगा। मतदान केंद्रो पर वोटिंग के दौरान उनकी गणना अलग से की जा रही थी। मतदान कर्मी अलग कागज पर उनकी संख्या का आकलन कर रहे थे। हर बूथ पर गणना का तरीका अलग-अलग था। बताया जाता है कि यह व्यवस्था हर बूथ पर थी। बाद में इसे जोड़कर महिला मतदाताओं की संख्या और वोटिंग में उनका प्रतिशत निकाला जायेगा। यह सूचना चुनाव आयोग एवं केंद्र तक पहुंचायी जायेगी। हाल के दिनों में राजनीति में महिलाओं की संख्या काफी बढ़ी है। कई संगठन महिला को टिकट नहीं देने पर पार्टियों को आड़े हाथों ले रहे हैं। जनसंख्या के हिसाब से आरक्षण देने की मांग भी उठ रही है। संसद, विधानसभा आदि में उन्हें 33 फीसदी आरक्षण देने की बात चल रही है। यह अब तक अंतिम रूप नहीं ले सका है। संभव है इस गणना के बाद उस मुद्दे पर आगे की कोई रणनीति बनें। इवीएम पहुंचा पंडरा, स्ट्रांग रूम की सुरक्षा चाक-चौबंद रांची। रांची लोकसभा सभाक्षेत्र के सभी छह विधानसभा क्षेत्रों से देर रात इवीएम पंडरा स्थित बज्रगृह में जमा करा दिया गया। निर्वाची पदाधिकारी राजीव अरुण कुमार एक्का एक-एक कर विधानसभावार इवीएम को अलग-अलग स्ट्रांग रूम में रखवाया। इधर स्ट्रांग रूम के आसपास किसी को फटकने की इजाजत नही दी गयी है। स्ट्रांग रूम के आसपास की सुरक्षा कड़ी कर दी गयी है। सुरक्षा ऐसी कि परिंदा भी पर नहीं मार सके। सुगनू के मतदाताओं ने किया बहिष्कारड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पता चलेगा वोटिंग में महिलाओं का रुझान