DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पश्चिम बंगाल सरकार ने टाटा के न जाने की अपील

पश्चिम बंगाल से टाटा की नैनो परियोजना के हटने की खबरों के बीच मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य ने गुरुवार को कहा कि विश्व की सबसे सस्ती कार के सिंगूर से निकलने की संभावनाएं लगभग समाप्त हो गई हैं लेकिन वह यहां से न हटने की टाटा से अपील करते हैं। राय मंत्रिमंडल ने अंतिम प्रयास के तहत गुरुवार विपक्षी दलों से परियोजना के लिए ली गई भूमि के मालिकों को क्षतिपूर्ति और पुनर्वास पैकेज दिलाने में मदद करने और परियोजना को चालू रखने में सहायता करने की अपील की। जानकार सूत्रों के अनुसार टाटा समूह के अध्यक्ष रतन टाटा ने हाल ही में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख को लिखे पत्र में कहा था कि पश्चिम बंगाल में अनिश्चितता की स्थिति है और टाटा मोटर्स वहां से परियोजना को हटाने पर सक्रियता से विचार कर रही है। यह पत्र कई रायों के टाटा को अपने यहां परियोजना स्थापित करने के आमंत्रण के बाद लिखा गया था। समझा जाता है कि भट्टाचार्य ने मंत्रिमंडल की बैठक में कहा कि उन्हें नहीं लगता कि टाटा मोटर्स अपनी छोटी कार परियोजना के साथ अब पश्चिम बंगाल में रहेगा क्योंकि तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बैनजी ‘भूमि के बदले भूमि’ की अपनी मांग से पीछे हटने को तैयार नहीं हैं। भूमि सुधार मंत्री अब्दुर रजाक मुल्ला ने बताया कि मुख्यमंत्री ने बैठक मे ंकहा कि अब संभावनाएं बिल्कुल समाप्त हो गई हैं। सरकार ने परियोजना को बरकरार रखने के लिए बहुत प्रयास किए और काफी लचीला रूख अपनाया लेकिन उन्हें कोई आशा दिखाई नहीं देती।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पश्चिम बंगाल सरकार ने टाटा के न जाने की अपील