अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चाची-भतीजे ने की शिविर में शादी

ृषि हाईस्कूल चकला निर्मली सुपौल बाढ़ राहत शिविर में शरण लिए रिश्ते में लगने वाली चाची से भतीजे ने शादी कर ली। दोनों पहले से ही शादीशुदा हैं। चाची को तो दो संतानें भी हैं। इसकी जानकारी होने पर भतीजे की पत्नी ने शिविर में हंगामा किया। हंगामे के बाद पंचायत बैठी और भतीजे पर 5,000 रुपये व एक साइकिल का दंड दिया गया। समाचार लिखे जाने तक नये दूल्हा-दुल्हन के साथ भतीजे की पत्नी भी साथ ही रह रही है। बताया जाता है कि बाढ़ की विभीषिका के बाद इस शिविर में शंकरपुर थाना (मधेपुरा) के कल्हुआ गांव के 25 वर्षीय रविंद्र राम ने अपनी पत्नी रुनिया देवी के साथ शरण ली थी। यहीं रवि राम के रिश्ते की एक चाची 32 वर्षीय माला देवी भी पांच वर्षीय पुत्र के साथ रहने लगी। इसी बीच रविंद्र राम ने अपनी चाची माला देवी से मंदिर में जाकर शादी रचा ली। शादी कर जब वे दोनों वापस लौटे तो कानाफूसी होने लगी। शादी का मामला उाागर होने पर पहली पत्नी रुनिया देवी के भाई एवं अन्य रिश्तेदारों द्वारा शिविर में ही पंचायत बैठाई गई। पंचायत में अन्य बाढ़पीड़ित भी शामिल हुए। अंतत: काफी बहस के बाद रविंद्र को दोषी करार देते हुए 11,000 रुपये एवं एक साइकिल देने का जुर्माना किया है। पुन: बीचबचाव कर 11,000 की जगह 5,000 रुपये ही दंड दिया गया। दंड चुकाने के लिए अंतिम तिथि 30 सितंबर मुकर्रर की गई है। हालांकि दूसरी शादी के बाद भी वह अपनी पहली पत्नी को भी अपने साथ रखे हुए है। दूसरी पत्नी माला देवी का पुत्र भी संभाले हुए है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चाची-भतीजे ने की शिविर में शादी