DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मनमोहन को सर्वाधिक सुरक्षा

भारतीय प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह यहां उन नेताओं में से एक हैं जिन्हें सर्वाधिक सुरक्षा प्रदान की गई है। यहां संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने देशों का प्रतिनिधित्व करने के लिए दुनिया के 150 से 1देशों के नेता पहुंचे हुए हैं जिनमें भारतीय प्रधानमंत्री भी शामिल हैं। भारतीय प्रधानमंत्री के काफिले में 18 वाहन हैं, जिनमें अमेरिकी खुफिया सर्विस, न्यूयार्क पुलिस विभाग और स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) के दस्ते शामिल हैं। जब मनमोहन का काफिला निकलता है तो उसके गुजरने के लिए यातायात रोक दिया जाता है। पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी, अफगानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद कराई और अमेरिका के राष्ट्रपति जार्ज डब्ल्यू. बुश वे तीन अन्य नेता हैं जिन्हें उच्चतम स्तर की सुरक्षा मिली हुई है। डॉ. सिंह जब हवाई अड्डे से होटल के लिए रवाना हुए तो उनके काफिले की निगरानी में खुफिया सर्विस व न्यूयार्क पुलिस के जवानों का एक हेलीकॉप्टर ऊपर उड़ता हुआ चल रहा था। डॉ. सिंह मैनहट्टन शहर के बीचोंबीच मेडिसन एवेन्यू में स्थित न्यूयार्क पैलेस होटल में ठहर हैं। इसलिए उनकी सुरक्षा के मद्देनजर इस होटल के सामने की सड़क पर वाहनों की आवाजाही रोक दी गई है। न्यूयार्क पैलेस होटल मैनहट्टन के अन्य होटलों की तरह सीधे सड॥क पर खुलता है और यहां आने वाले अतिथि वाहन से सड़क पर ही उतरते हैं। यहां से कुछ कदमों की दूरी पर ही पार्क एवेन्यू में होटल वाल्डोर्फ एस्टोरिएई है जहां जार्ज बुश और हामिद कराई ठहर हुए हैं। डॉ. सिंह 55 मंजिलों वाले न्यूयार्क पैलेस की 51वीं मंजिल पर ठहर हैं। इसी मंजिल पर भारतीय दल भी ठहरा हुआ है। ऐसी व्यवस्था की गई है कि जब तक डॉ. सिंह को खुद जरूरत नहीं हो तब तक इस मंजिल पर लिफ्ट नहीं रुक सकती। डॉ. सिंह से मिलने वालों को या तो एक मंजिल ऊपर जाना होगा या फिर एक मंजिल नीचे ही उतरना होगा जहां खुफिया सर्विस व एसपीजी की जांच से गुजरने के बाद ही उन्हें डॉ. सिंह के पास जाने की अनुमति मिल सकती है। एसपीजी समेत भारतीय अधिकारियों को इस मंजिल के लिए एक गुप्त कोड दिया गया है। राष्ट्रपति बुश न ह्वाइट हाउस मं भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को दिए रात्रिभोज क दौरान उनकी जमकर सराहना की और उन्हं आधुनिक और आत्मविश्वास स लबरा भारत का निर्माता करार दिया। इस दौरान उन्होंन मजबान का र्फा भी ढंग स निभाया। रात क खान मं मछलियों स बन विभिन्न व्यंजनों, सलाद और विविध फलों की भरमार रही। गुरुवार रात बुश व्हाइट हाउस क ‘ओल्ड फैमिली डाइनिंग रूम’ मं मनमोहन सिंह क साथ जब अपन अंतिम रात्रिभोज पर बैठ तो उन दानों क बीच पिछले चार वर्षो क दौरान विकसित हुआ बुश न मनमोहन की तारीफां क पुल बांधत हुए दो वर्ष पहल की अपनी भारत यात्रा को भी गर्मजोशी स याद किया। जवाब मं भावुक मनमोहन न भी भारत-अमरिका संबंधों को प्रगाढ़ बनान मं बुश की भूमिका की तारीफ की।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मनमोहन को सर्वाधिक सुरक्षा