अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अत्यंत पिछड़े वर्ग को उनका वाजिब हक मिले

अत्यंत पिछड़ा वर्ग को उनका वाजिब हक मिलना चाहिए। विधानसभा व लोकसभा में उन्हें अपनी संख्या के हिसाब से सीटों पर आरक्षण का लाभ मिलना चाहिए। अत्यंत पिछड़ा वर्ग चेतना संगठन के आह्वान पर कारगिल चौक आयोजित धरना को संबोधित करते हुए संगठन के प्रदेश अध्यक्ष व विधान पार्षद डा. भीम सिंह ने कहा कि सभी दलों को इसके लिए समेकित प्रयास करना होगा।ड्ढr ड्ढr डा. सिंह ने कहा कि विधान परिषद की अनुशंसा के आलोक में अत्यंत पिछड़ी जातियों के लिए उनकी आबादी के अनुरूप विधानसभा की 81 व लोकसभा की 13 सीटें आरक्षित, केंद्रीय सेवाओं में अति पिछड़ों के लिए 15 फीसदी का कोटा अलग, प्रोन्नति में आरक्षण, बेरोगारों को बिना बैंक गारंटी के 10 लाख का ऋण, देश व प्रदेश में सोसल बजटिंग सिस्टम लागू और गरीबों को आत्मरक्षार्थ मुफ्त रायफल प्रदान किया जाए। उन्होंने अतिपिछड़ों को एकाुट होकर नई राजनैतिक शक्ित के निर्माण का आह्वान किया। इसके लिए उन्हें पढ़ाई व लड़ाई का मूलमंत्र भी दिया। समाज, सरकार व राजनीतिक दलों द्वारा की जा रही उपेक्षा के खिलाफ आगामी 16 नवंबर को पटना के एसके मेमोरियल हॉल में अत्यंत पिछड़ावर्ग चेतना सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। संगठन के आह्वान पर सूबे के लगभग दो दर्जन जिला मुख्यालयों पटना, औरंगाबाद, सासाराम, भभुआ, जहानाबाद, बांका आदि में जिलाधिकारियों के माध्यम से राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यपाल व मुख्यमंत्री समक्ष धरना दिया।धरना की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष सुनील कुमार चंद्रवंशी ने की। धरनार्थियों को प्रो. संतोष दास, शिवशंकर निषाद, दिनेश गुप्ता, पीपी मालाकार, लल्लू राम चंद्रवंशी, मनोहर प्रसाद, डा. नंदकिशोर प्रसाद, श्रवण कुमार, राजेश कुमार तांती, शंकर प्रसाद, लालबाबू साहनी, अनूप चंद्रवंशी आदि ने संबोधित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अत्यंत पिछड़े वर्ग को उनका वाजिब हक मिले