अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महीने भर में सड़कों को चलने लायक बनायें

सड़कों की दुदर्शा पर सीएम के सख्त होने के बाद विभागीय सचिव एनएन सिन्हा ने इंजीनियरों को कड़ी हिदायत दी है। इंजीनियर इन चीफ तथा चीफ इंजीनियर को जिम्मेदारी से वाकिफ कराया गया है। महीने भर में सड़क को मोटरबुल (चलने लायक) बनाने को कहा गया है। एनएच के इंजीनियरों से भी काम में तेजी लाने को कहा गया है। सचिव ने नन प्लान की प्रगति की समीक्षा करने के बाद टेंडरों के लटके रहने पर नाराजगी जतायी है। सभी डिवीजन के इइ से कहा गया है कि महीने भर बाद रिाल्ट नहीं मिलने पर कार्रवाई भी होगी। इधर, एनएच चीफ इंजीनियर ने सभी डिवीजन के इइ को ओआर, एफडीआर तथा विवेकाधीन फंड के काम में तेजी लाने का निर्देश भेजा है। चीफ इंजीनियर 28-2सितंबर को एनएच 33 तथा एनएच 23 का जायजा लेंगे।ड्ढr रांची-ामशेदपुर एनएच : सड़क पर कम, टेंडर पर ज्यादा ध्यानड्ढr रांची (हिब्यू) रांची तथा जमशेदपुर एनएच डिवीजन की सड़क पर कम टेंडर पर ज्यादा नजर है। सबसे ज्यादा पैसा खर्च होने के बाद भी एनएच 33, 75, 32 की बिगड़ी सूरत पर सवाल उठने लगे हैं। पिछले नौ महीने में एनएच 33 पर दोनों डिवीजन में 12 करोड़ से ज्यादा के काम हुए, लेकिन नहीं सुधरी। इसी तरह एनएच 75 (रांची-डालटनगंज) की सबसे ज्यादा दुर्गति है। इंदर सिंह नामधारी ने तो सरकार से इस सड़क की मरम्मत की जांच कराने की मांग की है। रांची डिवीजन की फिलहाल नामकुम आरओबी का टेंडर फाइनल कराने की चिंता ज्यादा है। इइ से गड़बड़ी पर कारण भी पूछा गया है।ड्ढr सड़क की क्वालिटी पर जोरड्ढr रांची। राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्रालय के एडीाी वीके सिन्हा ने पीसीसी सड़क की क्वालिटी पर जोर दिया है। पथ निर्माण विभाग द्वारा आयोजित इंजीनियरों के प्रशिक्षण कार्यक्रम में बतौर विशेषज्ञ सिन्हा ने बताया कि कैसे 20- 25 साल तक पीसीसी सड़क की क्वालिटी अच्छी रखी जा सकती है। ट्रैफिक क्षमता के बार में भी जानकारी दी। रविवार को भी यह प्रशिक्षण चलेगा। कार्यक्रम में पथ निर्माण के सचिव एनएन सिन्हा, इंजीनियर इन चीफ एफएम टोप्पो, चीफ इंजीनियर विजय कुमार, एसइ त्रिपुरारी शंकर प्रसाद, पटवारी सोरन, एसएन ठाकुर तथा नोडल अफसर शैलेंद्र मिश्र शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: महीने भर में सड़कों को चलने लायक बनायें