अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

15 तक करायें सव्रे

बाल श्रमिक आयोग की पहली बैठक शनिवार को श्रम भवन, डोरंडा में श्रम मंत्री भानू प्रताप शाही की अध्यक्षता में हुई। बैठक में राज्य में बाल श्रमिकों का सव्रेक्षण पूरा नहीं किये जाने पर मंत्री ने नाराजगी जताते हुए एनजीओ को काली सूची में डलाने का निर्देश दिया है। एक साल पूर्व बाल श्रमिकों के सव्रेक्षण के लिए एक करोड़ रुपये दिये गये थे। शाही ने अधिकारियों से कहा कि बाल श्रमिकों के सव्रेक्षण का कार्य हर हाल में15 अक्तूबर तक हो जाना चाहिए। अधिकारियों ने बताया कि 10 जिलों में सव्रेक्षण का काम हुआ है। इसमें 2472बाल श्रमिक चिह्न्ति किये गये हैं। बैठक में विधायक अशोक भगत, गिरिनाथ सिंह, स्वास्थ्य निदेशक डॉ जितेंद्र कुमार सिंह, निदेशक कल्याण विभाग सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी और नामित सदस्य उपस्थित थे। पेट्रोमेक्स की रोशनी में हुई बैठक : बाल श्रमिक आयोग की पहली बैठक पेट्रोमेक्स की रोशनी में हुई। बैठक स्थल पर लाइट की व्यवस्था नहीं थी। इसपर मंत्री ने नाराजगी भी जतायी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 15 तक करायें सव्रे