DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ईसाइयों पर हो रहे हमलों की भर्त्सना कीईसाइयों पर हो रहे हमलों की भर्त्सना की

रांची। ईसाइयों पर उड़ीसा, कर्नाटक, केरल, आंध्रप्रदेश, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में हो रहे हमलों के मुद्दे पर कैथोलिक बिशप्स कांफ्रेंस ऑफ इंडिया (सीबीसीआइ) ने केंद्र और संबंधित राज्य सरकारों को संवेदनहीन बताया और उनपर निष्क्रियता का आरोप लगाया है। बंगलुरू में 23 से 26 सितंबर को हुई स्टैंडिंग कमेटी की बैठक में इस पर चर्चा हुई और कार्यकारिणी का वक्तव्य जारी किया गया। सीबीसीआइ का यह वक्तव्य रांची में सोमवार को आर्चबिशप हाउस से जारी किया। इसमें कहा गया है कि उड़ीसा के मामले में स्पष्ट है कि वहां हिंसा में लिप्त लोग रूढ़ीवादी हिंदू संगठनों के कार्यकर्ताओं द्वारा प्रशिक्षित और संचालित नुमाइंदे थे। सीबीसीआइ ने समाज और धर्म विरोधी तत्वों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। प्रभावित लोगों को समुचित हराना देने की भी मांग की है। घटनाओं की सीबीआइ जांच करायी जाये। रूढ़ीवादी तत्वों को प्रतिबंधित किया जाये। और सांप्रदायिक एजेंडे के तहत काम करनेवाले नेताओं पर रोक लगे। वक्तव्य में कहा गया है कि देश में हर नागरिक और समुदाय को धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार है। हम इस महान देश के नागरिक हैं। हमें हिंदू समाज और अन्य समाज के उन व्यक्ितयों से सांत्वना मिलती है, जो मुट्ठीभर रूढ़ीवादी कार्यकर्ताओं के कृत्यों की भर्त्सना के लिए सामने आये।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ईसाइयों पर हो रहे हमलों की भर्त्सना कीईसाइयों पर हो रहे हमलों की भर्त्सना की