DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जेबीसीसीआइ मीटिंग में टैक्सी पर 2.45 लाख खर्च

ोबीसीसीआइ की बनारस में हुई तीसरी बैठक में मात्र टैक्सी भाड़ा पर 2.45 लाख रुपये खर्च किये गये। कुल खर्च लाख हुआ। इसमें श्रमिक प्रतिनिधियों का टीए-डीए भी शामिल है। इसे कोल इंडिया ने वहन किया। यह सूचना कोल इंडिया ने आरटीआइ में कोयला उद्योग कामगार संगठन के केंद्रीय अध्यक्ष दर्शन सिंह चावला को दी।ड्ढr पांच सितारा होटल ताज गंगेज में एक और दो दिसंबर 07 को उक्त बैठक हुई थी। इसमें प्रबंधन के साथ श्रमिक प्रतिनिधि भी शामिल हुए। रहने-खाने पर चार लाख हाार 753 रुपये एवं अन्य खर्च 80 हाार 685 रुपये हुए।ड्ढr गैर कार्यरत श्रमिक प्रतिनिधियों ने टीए-डीए के रूप में करीब 1.18 लाख रुपये लिये। इसमें डॉ जी संजीवा रड्डी ने 12041, चंद्रशेखर दुबे ने 8ओपी लाल ने 3700, रमेंद्र कुमार ने 1050, एम मनहर देशकर ने 150, उदय पटवर्धन ने 18281, सफल सिन्हा ने 3640, राजेंद्र प्रसाद सिंघो ने 4178, जीवीआर शर्मा ने 23454, नाथूलाल पांडे ने 3714, वी वेंकट राव ने 1एवं एसके बक्शी ने 3300 रुपये लिये। राजेंद्र प्रसाद सिंह ने दावा नहीं किया। कार्यरत का खर्च संबंधित कंपनी ने वहन किया। बैठक में कोई निर्णय नहीं हुआ था।ड्ढr पीएम से की शिकायतड्ढr वेतन पुनरीक्षण को लेकर हुई बैठक में हुए इस खर्च पर कोयला उद्योग कामगार संगठन ने चिंता जतायी है। संगठन के एसइसीएल सचिव अलक मुखर्जी ने कहा कि इसे देखकर नहीं लगता कि श्रमिक प्रतिनिधि कामगार, उद्योग एवं राष्ट्रहित में काम कर रहे हैं। दस्तावेज सहित इसकी शिकायत पीएम, कोयला मंत्री एवं एजी नयी दिल्ली से भी की गयी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जेबीसीसीआइ मीटिंग में टैक्सी पर 2.45 लाख खर्च