अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मद्य निषेध विभाग की होगी अपनी हाजत

उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग अब अपना हाजत और मालखाना तैयार करवा रहा है। अवैध शराब के धंधेबाजों के खिलाफ सशक्त अभियान चलाने की तैयारी में जुटे विभाग को आधारभूत संरचनाओं से लैस करने की मुहिम के क्रम में ही यह सब चल रहा है। जिलों में बैठे एक्साइज सुपरिटेंडेंड और दूसर अधिकारियों की यह आम शिकायत रही है कि विभाग का अपना हाजत और मालखाना नहीं होने से उन्हें खासी परशानी उठानी पड़ती है। इस पर गौर करते हुए विभाग ने नव सृजित दस जिलों शेखपुरा, जमुई, लखीसराय, बक्सर, कैमूर, अरवल, शिवहर, बांका, सुपौल, और किशनगंज के लिए 10 करोड़ रुपए भी मुहैया कराए हैं।ड्ढr ड्ढr विभाग के प्रधान सचिव आमिर सुबहानी के अनुसार विभाग द्वारा इन जिलों का सृजन उत्पाद राजस्व में बढ़ोतरी के लिए किया गया है। इन जिलों में कार्यालय, हाजत और मालखाना का निर्माण होगा। इसके अलावा विभाग की योजना एक्साइज सुपरिटेंडेंट और एक्साइज इंस्पेक्टरों के लिए आवास निर्माण की भी है। छापेमारी में होने वाली परशानियों की शिकायत पर विभाग ने 16 जिलों को नई गाड़ियां मुहैया करा दी है। पहले विभाग के अधिकारियों को या तो भाड़े की या फिर विभाग की पुरानी गाड़ियों का ही सहारा था। अधिसंख्य एक्साइज सुपरिटेंडेंट की यह आम शिकायत थी कि खटारा और भाड़े की गाड़ियों के चक्कर में अवैध शराब के धंधेबाज अक्सर उनकी पकड़ से निकल भागते हैं। नई गाड़ियां उनकी इस परशानी को दूर करंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मद्य निषेध विभाग की होगी अपनी हाजत