class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिस्कोमान के छंटनीग्रस्त कर्मियों को नहीं मिली राहत

पटना हाईकोर्ट ने बिस्कोमान के छंटनीग्रस्त कर्मचारियों को किसी प्रकार का राहत नहीं दी। अदालत ने नौकरी से निकाले जाने को वैध ठहराया। बुधवार को न्यायमूर्ति अजय कुमार त्रिपाठी की एकलपीठ ने दो सौ के करीब रिट याचिकाओं को एक साथ सुनवाई के बाद सभी अर्जी को खारिा कर दिया। उल्लेखनीय है कि बिस्कोमान ने सात सौ से ज्यादा कर्मियों को सेवा से निकाल बाहर वर्ष 2006 में किया था। साथ ही उन सभी कर्मियों को 1से ही वेतन आदि के भुगतान पर रोक लगा दी थी।ड्ढr ड्ढr आवेदकों के वकीलो का कहना था कि बिस्कोमान ने सभी दैनिक भोगी कर्मचारियों को समय-समय पर नियमित किया था। लेकिन बिस्कोमान के अधिकारी अपने मनपसंद कर्मियों को सेवा में बहाल रखा तथा बाकी को बाहर का रास्ता दिखा दिया। उनका कहना था कि 1से ही कर्मियों को वेतन भी नहीं दिया जा रहा है। जबकि बिस्कोमान के वकील का कहना था कि बिस्कोमान की वित्तीय स्थिति ठीक नहीं है। सभी कर्मियों को नौकरी में रख कर वेतन आदि का भुगतान करना बिस्कोमान के बस में नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिस्कोमान के छंटनीग्रस्त कर्मियों को नहीं मिली राहत