DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संसदीय व्यवस्था स्वीकार नहीं : माआेवादी

म्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (माआेवादी) के वरिष्ठ नेता सीपी गजुरेल ने कहा है कि माआेवादियों को संसदीय व्यवस्था स्वीकार नहीं है और उनकी पार्टी नए संविधान के जरिए जनतंत्र का गठन करेगी। स्थानीय मीडिया ने गजुरेल के हवाले से कहा है कि माआेवादियों ने जनतंत्र की स्थापना के लिए लोगों के हक में लडाई की शुरुआत की है और वे अपने लक्ष्य से पीछे नहीं हटेंगे। गजुरेल ने लोकतांत्रिक व्यवस्था की मुखालफत करते हुए संसदीय व्यवस्था को दुनिया में असफल करार दिया है। उन्होंने कहा कि संसद लोकतांत्रिक नहीं है और उन्हें स्वीकार्य नहीं है। उधर, नेपाली कांग्रेस के नेता मिनेन्द्र रिजल ने कहा कि माआेवादी गतिविधियां निरंकुश हैं और उनकी पार्टी राय की शक्ित पर कब्जा करने की माआेवादियों की रणनीति का मुकाबला करेगी। गौरतलब है कि सत्ता में आने के बाद से ही माआेवादी नेता विरोधाभासी बयान दे रहे हैं। उनके कई नेताआें का कहना है कि वे लोकतांत्रिक व्यवस्था लागू करने के साथ बहुदलीय संसदीय व्यवस्था के लिए प्रतिबद्ध हैं। वहीं कुछ माआेवादी नेताआें का कहना है कि उनकी पार्टी देश में लोकतंत्र की स्थापना करेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: संसदीय व्यवस्था स्वीकार नहीं : माआेवादी