अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेटे को पहली बार टी.वी. पर देख भर आईं आंखें

बचपन से अनुरीत क्रिकेटर बनने का सपना संजोए था। क्रिकेट के लिए स्कूल से क्लास छोड़ कर भाग जाना उसकी आए दिन की आदत थी। घर में पिटाई भी होती फिर भी उसका क्रिकेट का जुनून कम नहीं हुआ। अपनी धुन में सवार अनुरीत क्रिकेट की पटरी पर कदम दर कदम बढ़ता गया। बेटा पहली बार टेलीविजन पर नजर आया तो माता-पिता की आंखें भर आईं। ये खुशी के आंसू थे। उनके बेटे की हसरत जो पूरी हो गई थी। पिता ने कहा, ‘यह वाहे गुरु की कृपा है। हां, अभय सर (रलवे कोच) ने मेर बेटे के लिए काफी मेहनत की है। सच कहूं तो उन्होंने ही उसे इस लायक बनाया है। पहली बार विदेश में खेलने गया है मेरा बेटा। जब हमने कल टी.वी. पर देखा तो हमारी आंखें भर आईं।’ गुरुवार को कोलकाता नाइटराइडर्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच आईपीएल का सबसे रोमांचक मैच खेला गया। इस मैच का हिस्सा थे अनुरीत। इशांत के साथ कोलकाता नाइटराइडर्स के स्ट्राइक बॉलर थे अनुरीत। 21 साल के अनुरीत ने बहुत ही गरीबी में दिन काटे हैं। पिता रलवे में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी थे। घर खर्च भी ठीक से नहीं चल पाता था बच्चों को क्रिकेट खिलाना तो दूर की बात थी। फिर क्या था कुछ दिन तो डीडीसीए के क्यूरटर रहे राधेश्याम ने उसे अपने क्लब से खिलाया। होनहार लड़का था लेकिन डीडीसीए की किसी भी टीम में उसको मौका नहीं मिला। फिर एक दिन इस बच्चे पर रलवे के कोच अभय शर्मा की नजर पड़ी। रणजी के पहले ही सीजन में अनुरीत का प्रदर्शन शानदार रहा और उसका यही प्रदर्शन कोलकाता नाइटराइडर्स की टीम में आने का कारण बना। रलवे के कोच अभय बताते हैं, ‘अनुरीत के बार में मेरी दिल्ली डेयरडेविल्स से भी बात चल रही थी। इसी दौरान उसे कोलकाता नाइटराइडर्स के कैम्प में बुला लिया गया। कैम्प में उसके प्रदर्शन को देख टीम में शामिल कर लिया गया।’ अभय बताते हैं, ‘मैंने उनसे यह जरूर कहा था उसे प्लेयिंग इलेवन में मौका जरूर देना। बुकानन ने भी उसकी गेंदबाजी को पसंद किया था और 20 लाख रुपये में उसका करार हो गया।’ अभय को पूरी उम्मीद है कि अनुरीत जल्द ही भारतीय टीम के लिए भी खेलेंगे। पिता की तरह ही अनुरीत भी अभी रलवे में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी हैं। मुम्बई के बांद्रा स्टेशन पर कार्यरत हैं। वहीं चार दोस्त एक कमरा लेकर रहते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बेटे को पहली बार टी.वी. पर देख भर आईं आंखें