DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कसाब बच्चा है या नहीं, होगी जांच

मुंबई पर आंतकी हमला करने वाला पाक आतंकी कसाब बच्चा है या नहीं, इसकी मेडिकल जांच कराने का आदेश शुक्रवार को विशेष न्यायाधीश एमएल तहिलियानी ने दे दिया है। कसाब पर मुकदमे की सुनवाई शुरू होने के दौरान कसाब की उम्र को लेकर विवाद पैदा हो गया था। अभियोजन पक्ष सबूतों के आधार पर कसाब को 21 साल का बता रहा है जबकि बचाव पक्ष ने कसाब को नाबालिग बताते हुए मुकदमा बाल न्यायालय में चलाने की मांग कर दी थी। हालांकि पहली नजर में अदालत ने कसाब को बच्चा नहीं मानाा था। लेकिन कसाब की उम्र को लेकर पैदा हुए विवाद को सुलझाने के लिए उसकी मेडिकल जांच कराने का आदेश जारी कर दिया। इसके साथ ही अदालत ने अभियोजन पक्ष को कसाब की उम्र के बार में दो गवाहों से भी पूछताछ करने की इजाजत दे दी है। कसाब की सही उम्र का पता उसके दांतों और हड्डियों की जांच से पता किया जाएगा।ड्ढr ड्ढr यह मेडिकल जांच रिपोर्ट अदालत में 28 अप्रैल को पेश होगा। कसाब के साथ नौ अन्य आतंकवादियों ने मुंबई पर हमले किए थे और 60 घंटों तक मुंबई को अपने कब्जे करके 166 बेगुनाह लोगों की जान ले ली थी। कसाब इकलौता आतंकवादी है जिसे मुंबई पुलिस ने जिंदा गिरफ्तार किया है। पिछले हफ्ते आर्थर रोड जेल में गठित विशेष अदालत में कसाब पर मुकदमे की सुनवाई शुरू हुई तो कसाब के वकील काजमी ने उसके नाबालिग होने का मामला उठाया। उन्होंने अदालत को बताया कि हमले के समय कसाब 17 साल का था। लेकिन विशेष सरकारी वकील उज्जवल निकम ने कसाब के इकबालिया बयान, अस्पताल और जेल में दर्ज उम्र के हवाले से साबित करने की कोशिश की है कि कसाब 21 साल का था। लेकिन कसाब खुद को बच्चा बताकर बाद में मुकदमे की सुनवाई में बाधा न डाले इसके लिए विशेष सरकारी वकील ने मंगलवार को अदालत में अर्जी दी थी कि कसाब की उम्र की मेडिकल जांच करा ली जाए। कसाब के वकील काजमी की भी यह चाहते थे। इसलिए अदालत ने कसाब की मेडिकल जांच कराने का आदेश दिया। ड्ढr तालिबान का बुनेर छोड़ने का फैसलाड्ढr बुनेर (रायटर)। पाकिस्तान में तालिबान के एक शीर्ष कमांडर ने अपने लड़ाकों से कब्जा किए गए बुनेर जिले को खाली करने के आदेश जारी किए हैं। तालिबान के प्रवक्ता मुस्लिम खान ने शुक्रवार को यहां कहा कि राजधानी इस्लामाबाद से मात्र 100 किलोमीटर दूर स्थित बुनेर में उसके 100 लड़ाके मौजूद हैं। खान ने कहा हमारे शीर्ष नेता ने आदेश दिया है कि तालिबान के लड़ाकों को तत्काल बुनेर से वापस बुला लिया जाए। खान ने कहा कि सरकार और तालिबान के प्रतिनिधि और कट्टरपंथी मुस्लिम मौलवी सूफी मोहम्मद तालिबान के लड़ाकों को बुनेर जिला छोड़ने का संदेश देने के लिए वहां जा रहे हैं। सूफी मोहम्मद ने ही तालिबान और सरकार के बीच स्वात समझौते में अहमद भूमिका निभाई थी। खान तालिबान कमांडर फजलुल्लाह के गुट से संबंधित है जिसका स्वात घाटी में दबदबा है और पाकिस्तान सरकार को वहां शरीयत कानून लागू करने की मांग मााने के लिए मजबूर होना पड़ा था।ड्ढr ड्ढr पिछले सप्ताह पाकिस्तानी मीडिया ने खान के हवाले से कहा था कि तालिबान अपने नियंत्रण वाले क्षेत्रों में अलकायदा को शरण देगा। वहीं दूसरी ओर तालिबान के पाकिस्तान में वर्चस्व बढ़ने से अमेरिका सहित विश्व के कई अन्य देशों ने चिंता जताई है। तालिबान का बुनेर छोड़ने का निर्णय उसी के बाद आया है। अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्िलंटन ने स्वात घाटी में तालिबान को खुश करने वाली पाकिस्तान की नीतियों को तालिबान को अधिकार देना बताया है। वहीं अमेरिकी रक्षा मंत्री राबर्ट गेट्स ने पाकिस्तान से उन ताकतों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आह्वान किया है जो देश के लिए खतरा हों।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कसाब बच्चा है या नहीं, होगी जांच