DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संकटकी घड़ी में धर्य न खोएं : शरद

ादयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव ने जिले के बाढ़ग्रस्त इलाके तथा दर्जनों बाढ़ राहत शिविरों का जायजा लेने के बाद कहा कि संकट की इस घड़ी में धैर्य न खोयें। सरकार द्वारा खाद्यान्न एवं 2250 रूपये नकद उपलब्ध कराया जा रहा है जल्द ही दूसरी किस्त में सौ किलो अनाज एवं 250 रूपया अनुदान पुन: मिलेगा। श्री यादव ने रविवार को बेलारी, अमहा, कुसहा, पस्तपार, रसना जीरवा सहित एक दर्जन बाढ़ राहत कैंपों का निरीक्षण किया तथा बाढ़ पीड़ितों की समस्याएं सुनीं।ड्ढr ड्ढr श्री यादव ने कहा कि बाढ़पीड़ितों के ध्वस्त घरों की वीडियाग्राफी कर सरकार घर मुहैया करायेगी। बाढ़ में बर्बाद हुए फसलों का भी मुआवजा दिया जायगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री राहत कोष से बाढ़पीड़ित महिलाओं को साड़ी, बर्तन आदि के अलावे 50 रूपये नकद दिया जायेगा। पुरूषों को धोती, गंजी, गमछा आदि उपलब्ध कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि बाढ़ में ध्वस्त सड़क एवं पुल पुलिया की मरम्मत कार्य युद्धस्तर पर शुरू हो गया है। इसके लिए प्रत्येक प्रखंड जो बाढ़ से प्रभावित हुए वहां कार्यपालक अभियंता को तैनात किया गया है। जल्द ही यातायात व्यवस्था बहाल होगी। उन्होंने कहा कि बाढ़पीड़ित छात्रों को भी सरकार क्रमश: 800, 1000 तथा 1200 रुपया कलम कॉपी आदि के लिए उपलब्ध कराएगी। श्री यादव के साथ बिहार सरकार के मंत्री सह मधेपुरा जिला के बाढ़ राहत प्रभारी नरन्द्र नारायण यादव, विधायक मणीन्द्र कुमार मंडल उर्फ ओम बाबू , जिलाध्यक्ष विजेन्द्र नारायण यादव, सुजीत मेहता, शोभाकांत यादव, अमरश कुमार, जयकिशोर, शशिभूषण यादव, चंदन कुमार, गोपाल यादव, जयकांत यादव, सत्य नारायण प्रसाद आदि थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: संकटकी घड़ी में धर्य न खोएं : शरद