DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देखें.कितने दिन चलती है गाड़ी : शिबू

झारखंड के शहीदों को भुलाया नहीं जा सकता। शहीदों की श्रद्धांजलि पर मेले का आयोजन राज्य की परंपरा रही है। दो बार कोयला मंत्री बना तो दो बार जेल चले गये। इस बार मुख्यमंत्री बना हूं। अब देखता हूं कि कितने दिन तक गाड़ी चलती है। उक्त बातें मुख्यमंत्री शिबू सोरन ने रविवार को रामकनाली स्थित शहीद सुशांतो सेनगुप्ता के 6वां शहादत दिवस पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा में कही। मुख्यमंत्री सोरन ने कहा कि जब झारखंड अलग राज्य की लड़ाई लड़ी जा रही थी, उस समय कोई कहता था कि झारखंड राज्य बनेगा तो कोई कहता था, नहीं बनेगा। परंतु हमलोग अथक काम करते रहे। तीन करोड़ लोगों के लिए अलग झारखंड राज्य बना। यह हिन्दू, मुसलमान, सिख, इसाई सभी का झारखंड है। उन्होंने कहा कि मैंने विधायक अपर्णा को मंत्री बनाया। वे चापाकल को देखने के लिए दूर-दराज के गांवों में चली जाती हैं। मैंने उनसे कहा कि चापाकल का अधिकारियों से हिसाब लो। उन्होंने कहा कि मैंने सभी मंत्रियों को मन से काम करने का निर्देश दिया है। काम नहीं होगा तो झारखंड के लोग कभी माफ नहीं करंगे। बिहारी लोग कहते थे कि हम झारखंडी लोग उन्हें भगा देंगे। किसी भी जगह किसी को कमाने-खाने में दिक्कत नहीं है। दिक्कत करने पर दिक्कत होगी। उन्होंने कहा कि जब कोयला मंत्री था तो बर्खास्त मजदूरों को नौकरी दिलवायी। निरसा के पीठाकियारी ग्राम में ले रह चुके हैं। निरसा के धरती के अंदर इतना पानी है कि वर्षो पटेगा धरती मां एसी है कि साल भर में चार बार अनाज देती हैं। गांव के लोगों को कोयला खदान का हिस्सा नहीं मिला। सिर्फ मजदूरी मिली। जितना लोग कोलियरी में काम करते हैं, उतने ही लोग दो नम्बरी काम में सगे हैं। हमें जानकारी है। प्रखंड के लोग कृषि पर ध्यान दें। कोयला के चकाचौंध पर नहीं रहें।मंत्री अपर्णा सेनगुप्ता ने कहा कि सुशांतो का हत्यारों ने भूल की है। अभी अपर्णा जिन्दा है। सुशांतो साधारण परिवार से थे। वे निरसा की जनता के प्रति काफी चिन्तित रहते थे। क्या वे एमएलए-एमपी थे? जिसने सुशांतो को हत्या करवायी हैं, उन्हें गांव में घुसने मत दीजिए। हत्या का मास्टर माइंड को जेल होगी। सांसद चंद्रशेखर दुबे ने कहा कि क्षेत्र के कल-कारखाने बंद हैं। इन्हें खोलने चाहिए, जिससे लोगों को रोगार मिल सके। कोयला क्षेत्र में लाखो प्राइवेट मजदूर कार्यरत है। इसके लिए सरकार द्वारा व्यवस्थित करने उठाये जाने चाहिए। मजदूरों के साथ अन्याय हो रहा है। पं बंगाल के पूर्व विधायक निशिकांत मेहता ने कहा कि सुशांतो समाप्त नहीं हुआ बल्कि इतिहास बनकर रह गया। राजद नेता विक्रमा प्रसाद यादव निरसा बदनाम की धरती है। क्षेत्र में आये अधिकारी कोयला व लोहा चोरी रोकने के बजाए उसी में समा जाते हैं। फाब्ला के प्रदेश महामंत्री जनार्दन पांडेय ने कहा कि बरबेदिया पुल बनने से निरसा से जामताड़ा की दूरी 32 किलोमीटर हो जायेगी। अध्यक्षता जनार्दन पांडेय व संचालन रामरान मिश्रा ने किया। भीड़ से अफरातफरीड्ढr निरसा। शहीद सुशांतो सेनगुप्ता की शहादत दिवस पर श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए भीड़ सड़कों पर उतर गयी। सभी का गंतव्य शहीद स्थल की ओर था। निरसा हरियाजाम मैदान से विशाल रैली निकाली गयी। रैली में हाारों की संख्या में दो-चार पहिया वाहन थे। इस दौरान क्षेत्र में अफरातफरी का माहौल बन गया। भीड़ को संभालने के लिए कार्यकर्ताओं को काफी मशक्कत करनी पड़ी। रैली का नेतृत्व मंत्री अपर्णा सेनगुप्ता कर रही थीं। दोपहर करीब 12.30 बजे रैली शहीद स्थल पहंची, जहां शहीद सुशांतो सेनगुप्ता को श्रद्धांजलि देने वालों का तांता लग गया। पूर कार्यक्रम का सही आंकलन किया जाए तो इस बार लोगों की संख्या कम और वाहनों की संख्या ज्यादा थी। पूर्व में शहीद स्थल भरा होता था जबकि इस वर्ष खाली-खाली नजर आ रहा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: देखें.कितने दिन चलती है गाड़ी : शिबू