अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

17 पीजी विभागों के शिक्षकों की वरीयता सूची जारी

पटना विश्वविद्यालय के 17 स्नातकोत्तर विभागों के शिक्षकों की वरीयता सूची जारी कर दी गयी है। विवि प्रशासन ने इस संबंध में सभी विभागों को सूचना भेज दी है। वरीयता सूची के तहत सभी विभागाध्यक्षों की वरीयता में कोई छेड़छाड़ नहीं हुई है। रोटेशनल हेडशिप के तहत लगभग सभी विभागों में अध्यक्षों की नियुक्ित पिछले वर्ष हुई थी। विवि प्रशासन द्वारा विभागाध्यक्षों को वरीयता सूची के संबंध में जानकारी दे दी गयी है। इसके तहत प्राचीन भारतीय इतिहास एवं पुरातत्व विभाग के अध्यक्ष डा. शत्रुघ्न शरण सिंह ही रहेंगे।ड्ढr ड्ढr उन्हें विभाग में वरीयता क्रम में सबसे ऊपर रखा गया है। इसी तरह व्यवहारिक अर्थशास्त्र एवं वाणिज्य में डा. उमेश मिश्र, बंगाली में डा. प्रतिमा सरकार, अर्थशास्त्र में डा. भगवान प्रसाद सिंह, रसायनशास्त्र में डा. रामजतन सिन्हा, मैथिली में डा. वीरंद्र झा, गणित में डा. रामकुमार वर्मा, फारसी में डा. आबिद हुसैन, दर्शनशास्त्र में डा. माधुरी वर्मा, पीएमआईआर में डा. गीता सिन्हा, सांख्यिकी में डा. अरुण कुमार सिन्हा, उर्दू में डा. एजाज अली अरशद, राजनीतिशास्त्र में डा. गणेश प्रसाद ओझा, संस्कृत में डा. रामविलास चौधरी, अरबी में डा. मो. शमशुल जोहा, विधि में डा. मो. शरीफ की वरीयता को सही माना गया है। डा. रामजतन सिन्हा के संबंध में विवि प्रशासन ने स्पष्ट कर दिया है कि राजभवन के आदेश के अनुसार विभाग में उनकी नियुक्ित की गयी है।ड्ढr ड्ढr परीक्षकों को मिले बढ़े पारिश्रमिक का लाभड्ढr पटना (हि.प्र.)। पटना विवि शिक्षक संघ के अध्यक्ष डा. धर्म प्रकाश ने कुलपति को ज्ञापन सौंपकर बढ़े पारिश्रमिक का लाभ देने की मांग की है। उन्होंने कहा कि लगभग डेढ़ माह पूर्व भत्ता बढ़ाने का निर्णय लिया गया था लेकिन अब तक इसकी अधिसूचना जारी नहीं होने से शिक्षकों में असंतोष है। उन्होंने कहा कि भत्ता बढ़ने से शिक्षकों में उत्साह बढ़ेगा और वे अपने कार्य को तेज गति से करंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 17 पीजी विभागों के शिक्षकों की वरीयता सूची जारी