अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्रीराम की याद

दशहरे के बहाने अपने राम को श्रीराम बहुत याद आ रहे हैं। हृदय दशरथ जैसा व्याकुल है। कारण, घर-गृहस्थी के लफड़े में कनपटी तक के हेयर ह्वाइट हो गए। त्रेता से कलियुग तक एक ही स्टोरी नाम बदल कर चल रही है। बड़े बच्चे को हायर एजुकेशन के लिए बाहर भेजा था, उधर ही उसके एक सो-कॉल्ड गुरु ने अपने किसी फ्रेंड की कन्या से उसकी मैरिज सेटिल करा दी। मेरे को पता तक नहीं चल पाया। हां! मैंने क्या ही अरमान पाल रखे थे? ऑवरी-डॉवरी के सारे ड्रीम मिट्टी में मिल गए। अब वह बच्चा विद फेमिली घर आ गया है। परिवार में एकता कपूर का नॉन स्टॉप सीरियल चालू है। सास, यानी मेरी पत्नी रोज-ब-रोज कैकेयी होती जा रही है। कहती है, इन दोनों से कहिए, कहीं और चले जाएं। चाहे जंगल में ही रहना पड़े, मगर सेपेरेट मकान लेकर रहें। मंझला लड़का तो और भी गरम खून का है। साक्षात शेषनाग का अवतार नजर आता है। इधर इस घरेलू टेंशन के चलते अपना ब्लड प्रेशर हाई हो रहा है। हालात ये हैं कि लगता है, इस डेली की झिकझिक में कहीं खुद का ही हार्ट फेल न हो जाए! राम की लीला तो राम ही जानते होंगे, पर अपने राम की लीला कौन जाने? आज मन मारीच हो रहा है। मैंने हिरन के साइज के सोन की कल्पना तो सपने में भी नहीं की। हां, स्वर्ण आभूषण के नाम पर एक अंगूठी जरूर पहनी। भांजे ने गिफ्ट में दी थी। एक शाम सुनसान रोड से गुजर रहा था। किसी ने स्वर्ण-मृग समझकर शिकार कर लिया। आज मुद्रिका की कौन कहे, फिंगर में एक लोहे का छल्ला तक नहीं है। गोल्ड के दाम आसमान पर हैं। उधर वज्र महंगाई ने लोहे की कीमत तक को आम आदमी की पहुंच से बाहर कर दिया है। गृहस्थी की अशोक वाटिका उजाड़ हो रही है। सोसायटी में अविश्वास की वह स्थिति है कि अपने सगे भाई ही विभीषण जैसे दीखने लगे हैं। आज श्रीराम इसलिए भी याद आ रहे हैं, क्योंकि इन दिनों राक्षस बेखटके घूम रहे हैं। सत्ता के हनुमानों को उनके बल की याद दिलानी पड़ रही है। आतंकवाद का रावण अपनी बीसों भुजाओं में विस्फोटक थामे खड़ा है। इसकी नाभि में अमृत नहीं है, अलबत्ता इसकी दसों खोपड़ियों में विष भरा हुआ है। यह मरन का नाम नहीं ले रहा। एक सिर कटता है, दस नए उग आते हैं। जब यहां जिंदगी में सब कुछ राम-राम करके ही चल रहा है, तब भला कौन इस मर्यादा पुरुषोत्तम को याद नहीं करेगा?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: श्रीराम की याद