DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कहीं-कहीं बारिश हो सकती है।

न्यूमरिकल मॉडल के आधार पर यह संकेत मिले हैं। भारत मौसम विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक अशोक कुमार बखला ने यह जानकारी दूरभाष पर दी। उन्होंने बताया कि अभी एक सिस्टम और पश्चिम विक्षोभ बना हुआ है। हालांकि यह झारखंड के ऊपर नहीं है। पश्चिम विक्षोभ वेस्टर्न हिमालयन रिान में है। सिस्टम का प्रभाव पश्चिम बंगाल के हिमालय वाले क्षेत्र, सिक्कम और पूवरेत्तर राज्यों में दिखेगा। उन इलाकों में अधिक बारिश होने की संभावना है। उनके मुताबिक हवा का रुख झारखंड की ओर हो जाने पर जाने यहां भी यह स्थिति हो सकती है। वर्तमान हालात में छिटपुट और तेज बारिश होने की संभावना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कहीं-कहीं बारिश हो सकती है।