DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूनिवर्सिटी टॉपर निकला आतंकी

बम धमाके से पहले इंडियन मुजाहिदीन के नाम से ई-मेल करने वाले गिरोह को पकड़ने का दावा मुंबई पुलिस ने किया है। सोमवार को आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में मुंबई पुलिस आयुक्त हसन गफूर ने कहा कि मोहम्मद मंसूर असगर पीरभोय और मुबीन उर्फ सलमान कादर शेख ई-मेल तैयार करके भेजने का काम करते थे। इन दोनों को पुणे से गिरफ्तार किया गया है। कम्प्यूटर इंजीनियर मंसूर देश की नामचीन आईटी कंपनी में 1लाख रुपए सालाना वेतन पर काम करता है। वह पुणे विश्वविद्यालय का टॉपर छात्र रह चुका है।ड्ढr ड्ढr मुबीन भी कम्प्यूटर स्नातक है। ये दोनों ई-मेल भेजने के लिए पुणे और मुंबई के वाई-फाई के पासवर्ड हैक करते थे। पुलिस को सबूत के तौर पर कुछ वेबसाइटों से पता चला है कि ई-मेल कट-पेस्ट करके भेजे गए हैं। अपराध शाखा के संयुक्त पुलिस आयुक्त राकेश मारिया के मुताबिक ये इंडियन मुजाहिदीन की मीडिया विंग के सदस्य हैं और इनके साथ मोहम्मद अकबर इस्माइल चौधरी उर्फ सय्यद ड्राइवर और कम्प्यूटर मैकेनिक भी है। ई-मेल लिखने का काम अतिक मोहम्मद इकबाल करता था और ई-मेल को पीडीएफ फाइल में तब्दील करने का काम मुबीन करता था। लेकिन मीडिया विंग के कमांडर रियाज भटकली और उसके भाई इकबाल भटकली ई-मेल पर दस्तखत करते थे। भटकल बंधु अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं।ड्ढr ड्ढr इस गिरोह में आसिफ बशीर शेख उर्फ हसन उर्फ मोहम्मद भी शामिल है। वाई-फाई हैक करके नवीं मुबई के सानपाडा, चेंबूर और खालसा कालेज से भेजे गए थे। पुलिस के मुताबिक, रियाज भटकली का नाम वर्ष 2003 में गेटवे ऑफ इंडिया पर हुए बम विस्फोटों में आया था। हालांकि उस समय रियाज के खिलाफ चार्जशीट दाखिल नहीं हुई थी। मुंबई पुलिस, एटीएस और खुफिया ब्यूरो ने संयुक्त रूप से छापेमारी कर अब तक इंडियन मुजाहिदीन के 20 आतंकियों को गिरफ्तार किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: यूनिवर्सिटी टॉपर निकला आतंकी