DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मप्र में 1,473 वोटरों को नहीं भाया कोई उम्मीदवार

मध्य प्रदेश के 13 संसदीय क्षेत्रों में 1,473 ऐसे मतदाता हैं जिन्हें चुनाव मैदान में उतरा एक भी उम्मीदवार चुनने के लायक नहीं लगा। इसीलिए वे मतदान केन्द्र तक तो पहुंचे मगर लोक प्रतिनिधित्व कानून के तहत मिले अधिकार का उपयोग कर वोट किसी को नहीं दिया। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय तक विभिन्न संसदीय क्षेत्रों से पहुंची जानकारी ने नेताआें के प्रति जनता में बढ़ती नाराजगी का खुलासा किया है। ये मतदाता मतदान केन्द्रों तक पहुंचे, अंगुली में स्याही लगवाई और रजिस्टर में नाम दर्ज कराने के बाद किसी को वोट नहीं दिया। ऐसे मतदाताआें के संदर्भ में जानकारी रखने की व्यवस्था है। जो मतदान केन्द्र पर पहुंचकर अंतिम समय में वोट नही डालते। इन मतदाताआें का मतदान केन्द्रों पर हिसाब रखा जाता है ताकि कोई मतदाता शिकायत दर्ज न करा सके। यह व्यवस्था लोक प्रतिनिधित्व कानून 1में की गई है और इसे 4आे नाम दिया गया है। प्रदेश में द्वितीय चरण में 23 अप्रैल को हुए मतदान में 13 संसदीय क्षेत्रों में 1उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे और इनके भाग्य का फैसला एक करोड़ 71 लाख 78 हजार 538 मतदाताआें को करना था। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक 1473 मतदाताआें ने किसी भी उम्मीदवार को वोट न देने के अपने अधिकार का इस्तेमाल किया। सबसे ज्यादा 712 मतदाता खजुराहो संसदीय क्षेत्र से रहे, जिन्होंने अपने इस अधिकार का इस्तेमाल किया। इसके अलावा सतना में 31, रीवा में 17, शहडोल में 14, बालाघाट में 20, छिन्दवाड़ा में 18बैतूल में 41, भोपाल में 418, विदिषा में 15, सीधी में दो, जबलपुर में सात, मंडला में चार होषंगाबाद में सात मतदाताआें ने किसी भी उम्मीदवार को वोट के काबिल नहीं समझा। इसीलिए वे मतदान केन्द्र तक तो पहुंचे और तमाम औपचारिकताए पूरी करने के बावजूद मशीन का बटन नहीं दबाया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मप्र में 1,473 वोटरों को नहीं भाया कोई उम्मीदवार