DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जांच होगी नवनिर्मित भवन की गुणवत्ता की

राजकीय आयुव्रेदिक कॉलेज अस्पताल में नवनिर्मित भवन की गुणवत्ता की जांच करायी जाएगी। अस्पताल के तीसर तल पर 82 लाख रुपये से बननेवाले कमरों में घटिया सामग्री के प्रयोग की आशंका को देखते हुए इसकी निगरानी से जांच करायी जाएगी। इस भवन को अभी तक हैंडओवर भी नहीं किया गया है।ड्ढr अस्पताल प्रशासन नवनिर्मित 14 कमरों के निर्माण को लेकर आशंकित है। इसके निर्माण की सामग्री को लेकर विशेष चिंता व्यक्त की जा रही है कि कहीं भविष्य में कोई बड़ा हादसा न हो। इसके लिए सरकार ने 82 लाख रुपये जारी किए थे।ड्ढr ड्ढr भवन का निर्माण 2007 में होना था। समय से काफी विलम्ब से निर्मित हो रहे भवन में घटिया ईंटें और सीमेंट-बालू के प्रयोग किए जाने की संभावना है। जो कमर निर्मित किए गए हैं उसके दरवाजे, चौखट और खिड़कियों के निर्माण में प्रयोग की गयी सामग्री भी संतोषप्रद नहीं है। अस्पताल प्रशासन नव निर्मित भवन को भर्ती मरीजों के लिए वार्ड के रूप में प्रयोग करना चाहता है। अभी इसका निर्माण कार्य भी पूरा नहीं हुआ है। प्रथम द्रष्टया निर्माण सामग्री पर आशंका व्यक्त करते हुए अस्पताल प्रशासन निगरानी विभाग से सम्पर्क पूर निर्माण की गुणवत्ता जांच करने में जुटा है। नव निर्माण की गुणवत्ता निर्धारित होने के बाद ही उसका प्रयोग मरीजों को रहने के लिए किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जांच होगी नवनिर्मित भवन की गुणवत्ता की