अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुनावी घंटी : कांग्रेस-भाजपा टिकट में उलझी

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव की रणभड़ी तो बज गई मगर राज्य की सत्ताधारी भाजपा समेत मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस के प्रत्याशियों का अभी काई अता-पता नहीं है। टिकिट को लेकर तीन खमों में बंटे कांग्रेस नेता महीना भर से आलाकमान की शरण लिए हैं तो भाजपा कांग्रस की सूची घाषित हुए बगैर अपना पत्ता नहीं खालना चाह रही। प्रत्याशियां की घाषणा मं बसपा जरूर आग निकल गई है। बसपा न महीना भर पहल ही 50 प्रत्याशी की घाषणा कर चुकी है। बसपा का प्रचार भी शुरु हा गया है। राज्य की 0 मं स अभी भाजपा क पास 53 और कांग्रस क खात मं 34 सीटं हैं। बसपा और एनसीपी क पास एक-एक सीट है और एक सीट खाली है। राज्य मं मुख्य मुकाबला कांग्रस और भाजपा क बीच ही हाना है। मगर टिकिटां क बंटवार का लकर दानां ही पार्टियां दुविधा मं है। कांग्रस मं गुटबाजी की वजह स टिकिट तय करना पार्टी क लिए टढ़ा खीर साबित हा रहा। प्रदश मं अजीत जागी, विद्याचरण शुक्ल और मातीलाल वारा समत आधा दर्जन दिग्गजां क चक्कर मं टिकिट उलझी है। राज्य क दिग्गजां समत 300 स अधिक दावदार दिी मं डरा डाल हुए हैं। इस बार मं प्रदश कांग्रस क कार्यकारी अध्यक्ष सत्यनारायण शर्मा मानत हैं कि पार्टी क पक्ष मं माहौल हान की वजह स टिकिटार्थियां की भीड़ कुछ ज्यादा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चुनावी घंटी : कांग्रेस-भाजपा टिकट में उलझी