DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एकता परिषद की बैठक कारगर नहीं हुई:नीतीश

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि दिल्ली में आयोजित राष्ट्रीय एकता परिषद की बैठक पहले से एजेन्डा तय नहीं होने के कारण कारगर नहीं हो सकी। पहले से एजेन्डा तय होता तो आमसहमति भी बनती और बात एक खास मुद्दे पर होती। लेकिन ऐसा नहीं हो सका। नालंदा से लौटने के बाद स्टेट हैंगर में संवाददाताओं से बात करते हुए उन्होंने इस बात को फिर दोहराया कि सांप्रदायिक तनाव हमें कतई बर्दाश्त नहीं है। ऐसी चीजों को शह देने वाला कोई भी हो उसे बख्शा नहीं जायेगा। उन्होंने कहा कि राज्य में साम्प्रदायिक और जातीय तनाव रोकने की जिम्मेदारी जिलाधिकारियों को दी गई है। इसके बेहतर परिणाम मिले हैं, दूसर राज्यों को भी ऐसा करना चाहिए। मुख्यमंत्री ने राज्यस्तर पर मान्यताप्राप्त राजनीतिक दलों को भी राष्ट्रीय एकता परिषद की सदस्यता देने की वकालत करते हुए कहा कि इससे ग्राउंड रियलिटी सामने आयेगी।ड्ढr ड्ढr नियम ऐसा भी होना चाहिए कि राज्यों में जाने वाले केन्द्रीय मंत्री राज्य सरकारों के खिलाफ राजनीतिक बयानबाजी न करं। सरकार का विरोध अलग बात है और उसको लेकर राजनीति करना अलग बात। इन मुद्दों पर राजनीति करने से भी सामाजिक तनाव बढ़ता है। अभी गठबंधन का दौर है और ऐसे भी इन मुद्दों पर जीरो टालरंस की आवश्यकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एकता परिषद की बैठक कारगर नहीं हुई:नीतीश