अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शराबी वाहन चालकोंकी खैर नहीं

नशे में झूमते हुए स्टेयरिंग घुमाने वालों की खैर नहीं। मुम्बई और दिल्ली में सलमान खान, संजीव नंदा, उत्सव भसीन आदि की तरह यहां भी नशे में ड्राइविंग करते हुए सड़कों पर कहर बरपाने वालों की कमी नहीं है। पिछले दिनों आर.ब्लॉक गोलंबर पर एक ट्रक से 4 मजूदरों के कुचले जाने के बाद प्रत्यक्षदर्शियों ने चालक पर नशे में होने का आरोप लगाया था।ड्ढr ड्ढr कुछ ही समय पूर्व कंकड़बाग पुलिस ने भी एक रइसजादे को शराब के नशे में गाड़ी चलाते पकड़ कर विभिन्न आरोपों में जेल भेजा था। बदले हालात में नशेड़ियों की नकेल कसने की कवायद पटना यातायात पुलिस ने तेज कर दी है। मामले की नजाकत को देखते हुए परिवहन विभाग द्वारा ट्रैफिक पुलिस को तीन ‘ब्रथ एनालाइजर’ या ‘ब्रथलाइजर’ मशीन एलॉट की गई है। इस विशेष मशीन की मदद से नशे में ड्राइिवग करने वालों की पहचान मौके पर ही संभव होगी। अभी जो प्रक्रिया है उसमें सरकारी अस्पताल में शराबी चालकों की जांच करवा कर नशा सेवन का पता लगाया जाता है। इसमें समय और उर्जा की बर्बादी होती है।ड्ढr ड्ढr 7-8 वर्षो पूर्व ट्रैफिक पुलिस के पास ऐसे कुछ संयंत्र थे हालांकि रखरखाव व अन्य कारणों से सभी खराब हो गये। इस बाबत मंगलवार को ट्रैफिक एस.पी. प्रदीप कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि यातायात पुलिस अपने स्तर से भी 4-5 ब्रेथ एनालाइजर मशीन खरीदेगी। परिवहन विभाग से एलॉट संयत्रों से संबंधित प्रशिक्षण आदि प्राप्त करने के बाद इस्तेमाल किया जायेगा। दूसरी तरफ सड़कों पर बेलगाम रफ्तार से मोटरसाइकिल या अन्य वाहनों की ड्राइविंग करने वालों को भी सड़क पर घेरने की मुकम्मल व्यवस्था की जा रही है। बेली रोड पर कुछ इलाकों के अलावा कई अन्य सड़कों पर चालकों की खतरनाक ड्राइविंग ने पुलिस के साथ ही पब्लिक को भी परशान कर रखा है। बकौल ट्रैफिक एस.पी. अगले एक-दो महीने में ‘स्पीड मीटर’ या ‘स्पीड गन’ मशीन उपलब्ध हो जायेगा जिससे अनियंत्रित रफ्तार रोकने के अभियान में लगाया जायेगा।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शराबी वाहन चालकोंकी खैर नहीं