DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज्य भर से जुटेंगे प्रतिनिधि

नेम्हा बाइबल प्रकरण और सरना आदिवासियों की दशा और दिशा के विषय पर 1अक्तूबर को मोरहाबादी मैदान में सरना आदिवासी धरम महापंचायत होगी। इसमें पूर राज्य से विभिन्न आदिवासी संगठनों के लोग जुटेंगे। उक्त जानकारी शुक्रवार को सरना धरम रक्षा मंच ने सरना भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में दी। इस अवसर पर आदिवासी जन परिषद के अध्यक्ष मोती कच्छप ने कहा कि धर्मातरण कर चुके आदिवासी मूल के ईसाइयों को जाति और समाज से बहिष्कृत किया जायेगा। वे सुप्रीम कोर्ट को भी गुमराह कर रहे हैं।डॉ बहुरा एक्का ने कहा कि नेम्हा बाइबल प्रकरण ने सुसंगठित धर्म ईसाइयत के खोखलेपन और उसकी बदसूरती को उाागर किया है। केंद्रीय सरना समिति के अध्यक्ष अजय तिर्की ने कहा कि 1अक्तूबर को धर्म के नाम पर ऐतिहासिक महापंचायत होगी। डॉ करमा उरांव ने कहा कि इस महापंचायत में 11 प्रस्ताव रखे जायेंगे, जिसपर महापंचायत में शामिल सरना धर्मावलंबियों की सहमति ली जायेगी।ड्ढr संवाददाता सम्मेलन में मेघा उरांव, कृष्णा उरांव, राम किशोर भगत, संजय कुाूर, तारा भगत, प्रेम शाही मुंडा, पारस लकड़ा, मुन्ना टोप्पो, रतन एक्का, राजदेव पाहन, गौतम उरांव, बुधु भगत, कृष्णकांत टोप्पो और अन्य उपस्थित थे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राज्य भर से जुटेंगे प्रतिनिधि