अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुंबई में फिर पिटे बिहार-यूपी के छात्र

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के अध्यक्ष राज ठाकर के समर्थकों ने एक बार फिर मुंबई में कल्याण की घटना दोहराई है। रलवे की परीक्षा देने आए खासकर यूपी-बिहार के छात्रों की न सिर्फ जमकर पिटाई की बल्कि दर्जनभर परीक्षा केंद्रों में उनके पर्चे और पास फाड़ दिए और उन्हें परीक्षा केंद्रों से खदेड़कर भगा भी दिए। मराठी और गैरमराठी के मुद्दे पर मनसे के साथ शिवसेना ने भी खुद को मराठियों का रहनुमा साबित करने की कोशिश की और मनसे की तरह ही गुंडागर्दी की। हालांकि परीक्षा देने आए इन गरीब परीक्षार्थियों के बचाव में कोई राजनीतिक पार्टी सामने नहीं आई है लेकिन पुलिस ने अपनी ओर से कार्रवाई की है।ड्ढr ड्ढr पुलिस सूत्रों के मुताबिक मनसे और शिवसेना के अब तक 30 कार्यकर्ताओं को पकड़ा गया है। इससे पहले वर्ष 2003 में राज ठाकर के नेतृत्व वाली विद्यार्थी सेना के कार्यकर्ताओं ने कल्याण स्टेशन पर यूपी-बिहार से रलवे की परीक्षा देने आए छात्रों को बुरी तरह से खदेड़-खदेड़ कर पीटा था। उन दिनों राज ठाकर शिवसेना में थे। मगर अब वह अपने चाचा और शिवसेना प्रमुख बाल ठाकर से अलग होकर मनसे के तहत गैरमराठियों के खिलाफ आंदोलन चला रहे हैं। रविवार की घटना के बाद मनसे के नेताओं ने इशारा किया है कि अब वह अपनी ताकत अगले महीने छठ पूजा में दिखाएंगे। पहले से घोषित लालू प्रसाद यहां छठ पूजा करने आने वाले हैं और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री विलास राव देशमुख उन्हें सुरक्षा मुहैया कराने वाले हैं। मनसे के समर्थकों ने यूपी-बिहार से आए छात्रों की पिटाई की शुरुआत मुंबई से सटे ठाणे स्टेशन से की जहां रविवार को तड़के छात्र परीक्षा केंद्र पर जाने के लिए तैयार हो रहे थे। लेकिन उन पर अचानक ईंटों और पत्थरों से हमला बोला गया। मनसे समर्थकों ने इनको लूटा भी और कुछ छात्रों को गंभीर रूप से घायल कर दिया। इस हमले का छात्रों ने प्रतिरोथ नहीं किया बल्कि जान बचाने के लिए रलवे पुलिस की शरण में गए।ड्ढr ड्ढr ठाणे के बाद कल्याण, नेरूल, डोंबिवली, नालासोपारा, भायंदर और मुंबई के सायन स्थित लगभग 13 केंद्रों पर मनसे और शिवसेना के समर्थकों ने उत्पात मचाया और उस समय पुलिस मूकदर्शक साबित हुई। सोलापुर केंद्र पर भी मनसे के कार्यकर्ताओं ने परीक्षा रोकने की कोशिश की। छात्रों को पीटने के मुद्दे पर मनसे और शिवसेना के नेताओं ने अपने कार्यकर्ताओं को न सिर्फ शाबाशी दी है बल्कि ये दोनों पार्टियां सबसे ज्यादा पिटाई करने के लिए भी वाहवाही बटोरने की कोशिश कर रही है। इस बीच केंद्रीय गृहमंत्री शिवराज पाटिल ने मुंबई के पुलिस कमिश्नर को तलबकर बुलाया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मुंबई में फिर पिटे बिहार-यूपी के छात्र