DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वतंत्रता दिवस पर देश में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था

स्वतंत्रता दिवस पर देश में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर आज दिल्ली और राज्यों की राजधानियों तथा महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों पर किसी भी आतंकी हमले से निपटने के लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। राष्ट्रीय राजधानी में जमीन से आसमान तक सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था की गई है जहां प्रधानमंत्री कल लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहरायेंगे।

छत्तीसगढ़ और पूर्वोत्तर के राज्यों में उग्रवादी धड़ों और माओवादियों के समारोह के बहिष्कार की धमकियों के मद्देनजर बड़ी संख्या में पुलिस बल और अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है। जवानों को विशेष तौर पर गश्ती अभियान चलाने को कहा गया है। पिछले सप्ताह आतंकी हमलों की वारदात के कारण जम्मू-कश्मीर में समूची घाटी में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। पुलिस और अन्य सुरक्षा बल गाड़ियों की जांच करने में जुटे हैं।

मुंबई में भी जबर्दस्त सुरक्षा व्यवस्था की गई है। शनिवार को आजाद मैदान में हिंसा की घटना की पृष्ठभूमि में पूरे शहर में पुलिसकर्मियों को चौकस रहने को कहा गया है। 40,000 से ज्यादा पुलिसकर्मियों को चारों और गश्ती अभियान में तैनात किया गया है। हिंसा प्रभावित असम में रेड अलर्ट जारी किया गया है। खासकार गोलपाड़ा जिले में पिछले कुछ दिनों में आइईडी पाए जाने के बाद सुरक्षा को लेकर चाक चौबंद व्यवस्था है।

देश की राजधानी में दिल्ली पुलिस और अर्धसैनिक बल के हजारों जवानों को तैनात किया गया है। विशेष रूप से लाल किला के आसपास सुरक्षा व्यवस्था अधिक कड़ी की गई है जहां से प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह तिरंगा फहराकर राष्ट्र को संबोधित करेंगे। अधिकारियों ने बताया कि किसी भी अप्रिय घटना को घटित होने से रोकने के लिए लाल किले के आसपास करीब 50 सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं। इसके अलावा इस 17वीं शदाब्दी में निर्मित स्मारक के आसपास की ऊंची इमारतों में पक्के निशानेबाज और राष्ट्रीय सुरक्षा बल के जवानों (एनएसजी) की तैनाती भी की गई है। उन्होंने बताया कि इसके अतिरिक्त सुरक्षा एजेंसियां लगातार लाल किले की सुरक्षा व्यवस्था पर निगाह रखे हुये हैं।
 
अधिकारियों ने बताया कि लाल किले के आस-पास के इलाकों में भी सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था की गई है और गोपनीय सूचना मुहैया कराने वाले भेदियों की तैनाती की है ताकि किसी भी राष्ट्रविरोधी तत्व पर काबू पाया जा सके। त्वरित कार्रवाई दल, स्वाट और वज्र को भी यहां विशेष रूप से तैनात किया गया है।

संसद परिसर, अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा, रेलवे स्टेशनों, अंतर राज्यीय बस अड्डे और मेट्रो स्टेशनों जैसी महत्वपूर्ण जगहों पर भी कड़ी चौकसी बरती जाएगी।
 अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक राम निवास ने बताया कि छत्तीसगढ में नक्सलियों के बहिष्कार के आहवान को देखते हुए खास कर सीमाई जिलों में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है।

मणिपुर में सात मुख्य उग्रवादी संगठनों के बहिष्कार के आह्वान के बाद इंफाल में गश्ती बढ़ा दी गई है। सुरक्षा बल विभिन्न जगहों पर छानबीन कर रहे हैं। असम में उल्फा के वार्ता विरोधी घड़े ने भी राज्यव्यापी बंद का आहवान किया है। एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि कर्नाटक में संदिग्ध आतंकी समूह की धमकियों के बाद रेलवे पुलिस को सतर्क रहने को कहा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्वतंत्रता दिवस पर देश में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था