DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इटली में पढ़ाया जाएगा टैगोर साहित्य

बांग्ला भाषा और टैगोर साहित्य के अध्ययन के लिए इटली के 11 विश्वविद्यालय अपने यहां अलग से विभाग खोलने जा रहे हैं। यहां स्थित इतालवी वाणिय दूतावास के सूत्रों के मुताबिक इन विश्वविद्यालयों के कुलपति कलकत्ता, जादवपुर, रवीन्द्र भारती और वर्धमान विश्वविद्यालयों के साथ समझौता पत्र पर हस्ताक्षर करने के लिए जल्द ही भारत आएंगे। सूत्रों ने कहा कि टैगोर साहित्य का अध्ययन करने के लिए बड़ी संख्या में इटली के छात्र भारत का रुख कर रहे हैं। इसके अलावा भाषा में दिलचस्पी रखने वाले इटली के भाषाविद कई विदेशी विश्वविद्यालयों में बांग्ला का अध्ययन कर रहे हैं। ‘गीतांजलि’ के लिए वर्ष 1में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित गुरूदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर की अधिकांश रचनाएं पुनर्जागरण काल में इटली में लिखी गई दुखांत कृतियों से प्रेरणाप्राप्त हैं। यही वजह है कि इटली के छात्रों की गुरूदेव के साहित्य में गहरी दिलचस्पी है। सूत्रों ने बताया कि गुरूदेव के नाटक और पुनर्जागरण काल के इतालवी साहित्य से तुलनात्मक अध्ययन विश्वविद्यालयों में शुरू किए जाने वाले पाठय़क्रमांे के केन्द्र बिन्दु होंगे। साथ ही इतावली और गुरूदेव की संगीत नाटिकाआें को भी पाठय़क्रम का हिस्सा बनाया जाएगा। पश्चिम बंगाल के चार विश्वविद्यालयों ने भी अपने यहां इतालवी भाषा का पाठय़क्रम शुरू करने की योजना बनाई है। कलकत्ता विश्वविद्यालय के सचिव (कला) डीपी डे ने फोन पर बताया कि विश्वविद्यालय की इतालवी भाषा और साहित्य में डिग्री कोर्स शुरू करने की योजना है। उन्होंने कहा कि इतालवी भाषा में डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स अगले वर्ष शुरू हो जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: इटली में पढ़ाया जाएगा टैगोर साहित्य