अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कई मायनों में ऐतिहासिक मोहाली टेस्ट

चार मैचों की टेस्ट श्रंखला के दूसरे मैच में आस्ट्रेलिया पर मिली 320 रनों की रिकार्डतोड़ जीत भारतीय क्रिकेट प्रेमियों को कई कारणों से याद रहेगी। सबसे पहले, भारत ने रन अंतर के लिहाज से टेस्ट मैचों में अपनी अब तक की सबसे बड़ी जीत दर्ज की। इससे पहले भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 1में कानपुर में 280 रनों से हराया था। मोहाली टेस्ट में सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली ने मील के पत्थर स्थापित किए। सचिन जहां वेस्टइंडीज के ब्रायन लारा को पीछे छोड़ते हुए टेस्ट मैचों में सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज बने वहीं गांगुली ने अपने खाते में 7000 रन जुटा लिए। यही नहीं, गांगुली ने मोहाली में अपने करियर का 16वां टेस्ट शतक लगाया। लारा के खाते में 11रन हैं, जबकि सचिन 12037 रन बना चुके हैं। भारतीय गेंदबाजों के लिए भी मोहाली टेस्ट यादगार रहेगा। खासतौर पर लेग स्पिनर अमित मिश्र के लिए जिन्होंने अपने पहले ही टेस्ट मैच में सात विकेट लेने का कारनामा किया। पहली पारी में पांच और दूसरी पारी में दो विकेट लेकर अमित भारत के सातवें ऐसे गेंदबाज बने जिन्होंने पहले ही टेस्ट मैच में यह सफलता हासिल की। इससे पहले, मौजूदा चयन समिति के सदस्य नरेंद्र हीरवानी, दिलीप दोषी, शिवलाल यादव, मुनाफ पटेल, आबिद अली और वी.वी. कुमार ने यह कारनामा किया था। दोषी, यादव, अली और अमित ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ यह मुकाम हासिल किया है। दूसरी पारी में जहीर खान ने चार गेंदों में आस्ट्रेलिया के तीन बल्लेबाजों को पवेलियन लौटाया। वह रवि शास्त्री के बाद यह कारनामा करने वाले दूसरे गेंदबाज बने। शास्त्री ने 10 में वेलिंग्टन टेस्ट में न्यूजीलैंड के खिलाफ यह कारनामा किया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कई मायनों में ऐतिहासिक मोहाली टेस्ट