DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेचुरल क्रिकेट खेलना अच्छा लगा: धोनी

महेन्द्र सिंह धोनी की किस्मत बुलंदियों पर है। इस समय तो यदि वे मिट्टी को भी हाथ लगा दें तो वह सोना बन जाए। पहले उन्होंने 20-20 विश्व कप जीता। उसके बाद श्रीलंका में पहली बार वनडे सीरीा जिताई और अब विश्व चैंपियन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इतनी बड़ी जीत। वाकई धोनी के सितार बुलंदियों पर हैं। कुम्बले की गैर-हाजिरी में उन्होंने दो टेस्ट में कप्तानी की है और दोनों में ही उनके सिर जीत का सेहरा बंधा है। इतना ही नहीं उनके खुद के प्रदर्शन पर भी कोई उंगली नहीं उठा सकता। यानी कप्तानी की जिम्मेदारी बखूबी निभाने के साथ-साथ वे अपने प्रदर्शन से भी न्याय कर रहे हैं। इस मैच में उन्हें मैन ऑफ द मैच भी चुना गया। अपनी व्यक्ितगत फॉर्म के बार में धोनी ने कहा, ‘दूसरी पारी में अपना नेचुरल और आक्रामक क्रिकेट खेलना अच्छा लगा। अपना नेचुरल क्रिकेट खेलने के लिए परफेक्ट पोजीशन थी। हमें अच्छा स्टार्ट मिला। विकेट सपाट था और गेंद पुरानी हो चुकी थी। मुझ जसे बल्लेबाज के लिए यह परफेक्ट पोजीशन थी।’ धोनी ने आगे कहा, ‘कभी-कभी मैं अपना नेचुरल खेल नहीं खेल पाता। कभी-कभी टीम की परिस्थितियों के अनुसार भी खेलना पड़ता। हां, मेरी नेचुरल स्ट्रेंग्थ आक्रामक खेल ही है और इस तरह की परिस्थिति में मैं हमेशा आक्रामक ही खेलना ही पसंद करूंगा।’ ऑस्ट्रेलिया के पूर मैच में बैकफुट पर रहने के सवाल पर भारतीय कप्तान ने कहा, ‘सच कहूं तो मैंने एसा पहले कभी नहीं देखा। पहली पारी में वे 13 ओवर में 22 रन तक पहुंचे थे और दो विकेट भी गंवा चुके थे। मुझे बहुत आश्चर्य हुआ। मेरी स्लिप में खड़े राहुल (द्रविड़) से कहा कि आपको एसा आमतौर पर देखने को नहीं मिलता।’ धोनी ने आगे कहा, ‘बेशक, उन्होंने कुछ खराब मैच खेले हों लेकिन आप उन्हें कभी भी हल्का नहीं आंक सकते। वह अभी भी विश्व की नम्बर-एक और बहुत ही टेलेंटेड टीम है। वे कभी भी जोरदार वापसी कर सकते हैं। मुझे उम्मीद है कि अगले दो टेस्ट मैचों में अच्छी क्रिकेट देखने को मिलेगी।’ उधर, मोहाली टेस्ट में अपनी फिरकी पर ऑस्ट्रेलियाई बल्लेंबाजों को नचाने वाले लेग स्पिनर अमित मिश्रा बहुत खुश हैं। मंगलवार की शाम को घर लौटने पर जोरदार स्वागत से अभिभूत अमित ने कहा, मुझे यह देखकर खुशी हो रही है कि मेर इतने प्रशंसक हो गए हैं। सभी मेरी काफी तारीफ कर रहे हैं। मैंने मैच में पॉजिटिव रुख के साथ विकेट लेने के लिए ही गेंदें फेंकी थीं। परिवार के लोगों ने अमित को तिलक लगाया और दुआएं दी। अमित ने भारतीय टीम में वापसी और फिर पहला टेस्ट खेलने का मौका मिलने पर कहा, वनडे टीम से ड्रॉप होने के बाद मैंने काफी मेहनत की। सीनियर खिलाड़ियों से अपने खेल पर चर्चा कर खूब सुधार किया। यह पूछने पर कि आपकी सटीक गुगली का क्या राज है? अमित ने कहा, मुझे साथी खिलाड़ियों ने बताया कि मेरी गुगली पिक हो जाती है, इसलिए मैंने इस पर खासा काम किया। इसके बाद मेरी टॉप स्पिनर भी अच्छी हो गई।अमित चाहते हैं कि उन्हें अनिल कुंबले के साथ भारतीय टीम में रहने का मौका मिले। इस पर उन्होंने कहा, मुझे उनसे अभी बहुत कुछ सीखना है। उनका साथ मेरी गेंदबाजी में और सुधार कर सकता है। वहीं, भारत के तेज गेंदबाज जहीर खान को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मोहाली में खेले गए दूसरे टेस्ट के दौरान अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की आचार संहिता का उल्लंघन का दोषी पाए जाने पर 80 प्रतिशत मैच फीस काटने की सजा सुनाई गई है। आईसीसी के मैच रेफरी क्रिस ब्राड ने मामले की सुनवाई के दौरान जहीर को आईसीसी आचार संहिता की धारा एक को भंग करने का दोषी पाया जिसमें कहा गया है कि खिलाड़ी पूरे समय खेल भावना तथा क्रिकेट के नियमों में रहकर ही खेलेगा। उल्लेखनीय है कि जहीर पर आरोप लगाया गया था कि वह सोमवार को चायकाल से पहले ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज मैथ्यू हेडन के खिलाफ कुछ बुदबुदाते नजर आए थे। इसके कारण मैच रेफरी ब्राड ने उन्हें तलब किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नेचुरल क्रिकेट खेलना अच्छा लगा: धोनी